नेपाल ने कोरोना के लिए फिर भारत को बताया जिम्मेदार, 90 प्रतिशत मामले विदेशियों से जुड़े

नेपाल (Nepal) ने रविवार को एक बार फिर से भारतीयो को कोरोना के प्रसार का जिम्मेदार बताया।  उसका कहना है कि 90 प्रतिशत मामले भारत से ही नेपाल में आए है। नेपाल ने कहा कि देश में कोरोना भारत से लौटे प्रवासी श्रमिकों ने फैलाया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश के 77 जिलों में से 75 में कोविड-19 का संक्रमण फैल चुका है। महामारी विज्ञान विभाग के निदेशक डॉ बासुदेव पांडेय ने कहा कि नेपाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 90 फीसदी मामले विदेश से लौटे प्रवासी श्रमिकों के हैं, जिनमें से अधिकतर भारत से वापस आए लोग हैं।

नेपाल में रविवार को संक्रमण के 421 नए मामलों के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा 9,026 तक पहुंच चुका है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश के 77 जिलों में से 75 में कोविड-19 का संक्रमण फैल चुका है। महामारी विज्ञान विभाग के निदेशक डॉ बासुदेव पांडेय ने कहा कि नेपाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 90 फीसदी मामले विदेश से लौटे प्रवासी श्रमिकों के हैं, जिनमें से अधिकतर भारत से वापस आए लोग हैं।

उन्होंने कहा कि 98 फीसदी संक्रमित लोगों में कोई लक्षण दिखाई नहीं दिए थे। स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने दैनिक बुलेटिन में कहा कि 421 नए मामलों में से 357 पुरुष और 64 महिलाएं शामिल हैं। मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हाल ही में भारत से इलाज कराकर लौटे 69 वर्षीय लकवाग्रस्त रोगी की मौत के बाद रविवार को कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 23 हो गई। वर्तमान में नेपाल के विभिन्न अस्पतालों में कोविड-19 के 7,231 मरीजों का इलाज चल रहा है।

उधर नेपाल की संसद में नागरिकता कानून (Nepal Citizenship Bill) में संशोधन के सत्तारुढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के प्रस्ताव को बहुमत से पारित कर दिया है। इस नए प्रस्ताव के तहत नेपाली पुरुषों के साथ विवाह करने वाली विदेशी महिलाओं को शादी के बाद नेपाल की नागरिगता पाने के लिए सात साल तक लंबा इंतजार करना होगा।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE