विदिशा में जबरन निकाली गई रथयात्रा, 40 हजार लोग हुए शामिल

कोरोना महामारी के बीच मंगलवार को कोरोना महामारी के बीच मंगलवार को नियमों को ताक पर रख कई शहरों में जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली गई। विदिशा में प्रशासन की अनुमति के बिना रथ यात्रा निकाली गई। जिसमे 40 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए।

जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, भक्तों ने धर्मशाला के गैराज का ताला तोड़कर वहां रखा रथ निकाला और उसमें भगवान को विराजित कर यात्रा निकाल दी। इसमें कोरोना के खौफ को ताक पर रख 40 हजार से ज्यादा लोगों ने दर्शन किए।

मानोरा मंदिर के पुजारी भगवतीप्रसाद वैष्णव के मुताबिक मंगलवार सुबह आरती के बाद 6.30 बजे भगवान को रथ में बैठाकर गांव का भ्रमण कराते हुए जनकपुरी मंदिर के सामने रथ ले जाकर खड़ा कर दिया। जहां देर शाम तक करीब 40 हजार श्रद्धालुओं ने भगवान के दर्शन किए।

मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष भगवान सिंह रघुवंशी का कहना है कि गांव के लोगों ने परंपरा बनाए रखने के लिए कुछ श्रद्धालुओं ने धर्मशाला का ताला तोड़कर रथ यात्रा निकाल दी।

हिंदू उत्सव समिति के अध्यक्ष अतुल तिवारी ने बताया कि हमने एक दिन पहले प्रशासन से अनुमति मांगी। लेकिन, सुबह तक अनुमति नहीं मिली, इसलिए गांव वालों के सहयोग से ताला तोड़कर रथ यात्रा निकाली गई।

वहीं पुरी में जगन्नाथ की रथयात्रा के दौरान सुप्रीम कोर्ट की सोशल डिस्टेंसिंग समेत तमाम निर्देशों की जमकर मजाक उड़ाया गया  विडियो में साफ़ देखा जा सकता है की कैसे लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करते हुए पास पास खड़े है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE