चीन के 40 हजार सैनिक लद्दाख में LAC पर जमे, बातचीत का नहीं दिख रहा असर

डिप्लोमैटिक चैनलों के जरिए कई दौर की बातचीत के बातचीत भी चीन लद्दाख में अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। उसके 40 हजार सैनिक लद्दाख में LAC पर जमे हुए है। उनके पास एयर डिफेंस सिस्टम और हथियारों से लदे वाहन मौजूद हैं।

ऐसे में अब भारतीय सेना ने भी सर्दियों के मौसम को देखते हुए अपनी तैयारी शुरू कर दी है। ऐसे में सेना ने रसद अभी से स्टॉक करना शुरू कर दिया है। सेना के कैंप में राशन और रसद पहुंचाने के प्रकिया शुरू हो गई है। सेना एक एक अधिकारी ने कहा कि पूर्व लद्दाख क्षेत्र में तापमान बहुत कम रहता है, ऐसे में वहां चुनौती अधिक है। हमने राशन स्टॉक करने की प्रक्रिया आरंभ कर दी है।

इसी के साथ उन्हें सर्दी के लिए जरूरी उपकरण और कपड़े भी भेजे जा रहे हैं। इसके लिए करीब 6 हजार एएलएस ट्रकों की मदद ली जा री है, जिनसे राशन के अलावा केरोसीन भी सेना तक पहुंचाया जा रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सेना को एलएसी पर मौजूद अपने 30 हजार सैनिकों के लिए 20 हजार टन अतिरिक्त राशन की जरूरत पड़ सकती है।

इसी के साथ उन्हें सर्दी के लिए जरूरी उपकरण और कपड़े भी भेजे जा रहे हैं। इसके लिए करीब 6 हजार एएलएस ट्रकों की मदद ली जा री है, जिनसे राशन के अलावा केरोसीन भी सेना तक पहुंचाया जा रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सेना को एलएसी पर मौजूद अपने 30 हजार सैनिकों के लिए 20 हजार टन अतिरिक्त राशन की जरूरत पड़ सकती है।

इसके अलावा भारतीय सेना अब तीन अतिरिक्‍त डिविजन को वापस तैनात करने के लिए तैयार है। एक डिविजन में 10 हजार से 25,000 तक जवान होते हैं। ऐसे में करीब 40,000 जवान इस समय एलएसी पर तैनात हैं।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE