अजमेर में फंसे 3 हजार जायरीन, पीएम मोदी को पत्र लिख मांगी मदद

कोरोना वायरस से निपटने के लिए किए गए अचानक लॉक डाउन के बीच अजमेर की ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह में जियारत के लिए आए 10 राज्यों के 3 हजार से ज्यादा जायरीन फंस गए। इसके अलावा एक हजार ऐसे लोग भी फंसे हैं, जो अजमेर में गेस्ट हाउस सहित तमाम अलग-अलग जगहों पर काम करते हैं। ऐसे में दरगाह कमेटी ने पीएम मोदी को पत्र लिख मदद मांगी है।

दरगाह कमेटी अध्यक्ष अमीन पठान ने अपने पत्र में लिखा कि अजमेर में फंसे हुए जायरीन को वापस उनके घर भेजने के लिए सरकार व्यवस्था करे। उन्होंने रेल मंत्री से आग्रह किया है कि दो स्पेशल ट्रेन चलाई जाएं ताकि दरगाह इलाके में फंसे जायरीन को उनके घर तक भिजवाया जा सके। दरगाह कमेटी ने इस बात से जिला प्रशासन से भी अवगत कर दिया है।

दरगाह कमेटी के चेयरमैन अमीन पठान ने बताया कि कोरोना वायरस के खतरों के देखते हुए दरगाह को जनता कर्फ्यू से दो दिन पहले बंद कर दिया गया था। इसके बाद सरकार ने पूरे देश में 14 अप्रैल तक के लिए लॉकडाउन कर दिया, जिसकी वजह से यहां पर करीब 3 हजार जायरीन फंसे हुए हैं। इन सभी जायरीनों के खाने-पीने का इंतजाम फिलहाल दरगाह कमेटी कर रही है।

अजमेर दरगाह के प्रोटोकॉल अधिकारी मोहम्मद मिनहाज आलम बताया कि कमेटी ने पूरे दरगाह इलाके में सर्वे कराकर एक आंकड़ा तैयार किया है, जिसके लिहाज से 10 राज्यों के 3075 जायरीन फंसे हुए हैं। कुछ खादिमों के घर रुके हुए हैं, तो कुछ गेस्ट हाउस में ठहरे हुए हैं। इनमें से पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश के ज्यादा लोग हैं।

उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल के 744, आंध्र प्रदेश के 601, उत्तर प्रदेश के 569, बिहार के 271, महाराष्ट्र के 255, कर्नाटक के 356, झारखंड के 77, गुजरात के 75 और दिल्ली के 28 जायरीन अजमेर में हैं। इसके अलावा अलग-अलग गेस्ट हाउस में काम करने वाले करीब 800 से 1 हजार के बीच लोग हैं।

वहीं, अमीन पठान ने 10 राज्यों के सीएम और मुख्य सचिवों को भी पत्र लिखा है, जिसमें बस के जरिये जायरीन को उनके घरों तक भेजने की व्यवस्था करने का अनुरोध किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकारें कुछ बसों के जरिए जिस प्रकार से गरीब और मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने का काम कर रही हैं वैसे ही अजमेर में फंसे हुए जायरीन को लिए भी की जानी चाहिए।

इसी बीच खबर है कि शहर में रविवार देर रात कोरोना पॉजिटिव तीन नए केस सामने आए। इसके बाद अजमेर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 24 घंटे में चार पर पहुंच गया।  ये तीनों शनिवार को कोरोना पॉजिटिव आए युवक के माता-पिता और भाई है। जबकि 17 साल की एक बहन की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE