मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में पीएम मोदी ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाने के दिए संकेत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शनिवार को मुख्यमंत्रियों के साथ करीब चार घंटे चली बैठक के बाद 30 अप्रैल तक बढ़ाए जाने के संकेत मिल रहे हैं। जानकारी के मुताबिक अब तक 11 में से 10 मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन को बढ़ाने की सिफारिश की है। जिसमें राजस्थान, पंजाब, छत्तीसगढ़, दिल्ली और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री शामिल हैं।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा- लॉकडाउन की बात करते हुए मैंने कहा था कि जान है तो जहान है। जब मैंने राष्ट्र के नाम संदेश दिया था तो शुरू में बल दिया था कि हर नागरिक की जान बचाने के लिए लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन बहुत आवश्यक है। देश के अधिकतर लोगों ने इस बात को समझा और घरों में रहकर अपना दायित्व भी निभाया। हम सभी ने भी इसी मंत्र पर चलते हुए देशवासियों की जिंदगी बचाने का प्रयास किया।

उन्होने कहा, भारत के उज्जवल भविष्य के लिए, समृद्ध और स्वस्थ भारत के लिए, जान भी जहान भी, दोनों पहलुओं पर ध्यान आवश्यक है। जब देश का प्रत्येक व्यक्ति जान भी और जहान भी, दोनों की चिंता करते हुए अपने दायित्व को निभाएगा, सरकार और प्रशासन के दिशा-निर्देशों का पालन करेगा, तो कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई और मजबूत होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा- आरोग्य सेतु ऐप का ई-पास के तौर पर इस्तेमाल हो सकता है

  • प्रधानमंत्री ने कहा कि आरोग्य सेतु ऐप कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जरूरी हथियार है। इससे संभावना मिली है कि इसे एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए ई-पास के तौर पर इस्तेमाल किया जाए।
  • प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में सुझाव दिया कि किसान खेतों में जो उगाते हैं, उसकी डायरेक्ट मार्केटिंग पर उन्हें इंसेंटिव देना चाहिए ताकि मंडियों में भीड़ जमा होने से रोका जा सके। इसके लिए नियमों में बदलाव करने चाहिए। इस तरह के कदम उठाने से किसान लोगों के दरवाजे तक अपनी उपज पहुंचा पाएंगे।
  • प्रधानमंत्री ने बताया कि वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जो कदम उठाए जा रहे हैं, वो अगले तीन से चार हफ्तों में निर्णायक साबित होंगे। इस चुनौती से निपटने के लिए टीमवर्क जरूरी होगा।
  • मोदी ने कहा कि कालाबाजारी और जमाखोरी नहीं होनी चाहिए। पूर्वोत्तर और कश्मीर के छात्रों और हेल्थ वर्कर्स पर हमले निंदनीय हैं।
  • उन्होंने भरोसा दिलाया कि भारत में जरूरी दवाओं का पर्याप्त स्टॉक है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे फ्रंट लाइन वर्कर्स के लिए प्रोटेक्टिव गियर और जरूरी उपकरण मुहैया कराने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।

    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE