नांदेड़ साहिब से पंजाब लौटे 800 लोग, 11 श्रद्धालुओं में संक्रमण मिलने से हड़कंप

महाराष्ट्र के नांदेड़ से पंजाब लौटे सिख श्रद्धालुओं के जत्थे में 10 लोग कोरोना पॉजिटिव होने के खुलासे के बाद हड़कंप मच गया है। अब राज्य सरकार इन लोगों को घर से बुलाकर जांच करा रही है।

इन पॉजिटिव लोगों में 8 तरनतारन जिले के और 3 कपूरथला जिले के हैं। इनमें से 179 श्रद्धालुओं की मामूली स्क्रीनिंग कर घर भेज दिया गया था, लेकिन अब इन लोगों का दोबारा से कोरोना टेस्ट किया जाएगा। प्रशासन ने सुरसिंह गांव और लाहुका को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है।

डेप्युटी कमिश्नर प्रदीप सबरवाल ने बताया कि प्रशासन मरीजों के इलाज के लिए व्यवस्था कर रहा है और साथ ही वे किस-किस के संपर्क में आए इसका पता लगाया जा रहा है। तरन तारन कोविड-19 नोडल अधिकारी जगजीत सिंह वालिया ने बताया कि सभी गांवों को सील कर दिया गया हैं और स्वास्थ्य अधिकारी मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग और वायरॉलजी टेस्ट कर रहे हैं।

तरन तारन एसडीएम रजनीश अरोड़ा ने बताया कि नांदेड़ से 35 और श्रद्धालु सोमवार को यहां पहुंचे जिन्हें उनके घर भेजने से पहले सरहाली कालां सरकारी अस्पताल में स्क्रीनिंग कराई जा रही है। सभी को 14 दिन के लिए घर पर ही क्वारंटीन रहने की सलाह दी गई है। ये सभी बुर्ज राय, बालारे और पंटकोटा गांव से हैं।

इस घटनाक्रम के बाद पंजाब सरकार ने दूसरे राज्यों से भारी संख्या में पहुंच रहे पंजाब के लोगों को लौटने पर 21 दिन का एकांतवास जरूरी कर दिया है। पंजाब के मुख्यमंत्री ने आदेश दिया कि नांदेड़ साहिब से आने वाले श्रद्धालुओं और राजस्थान से आने वाले विद्यार्थियों व मजदूराें को सरहद पर ही रोक कर सरकारी एकांतवास केंद्रों में भेजा जाएगा।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE