Home मध्य प्रदेश चुनाव आयोग को नहीं मिले सबूत, कांग्रेस का था एमपी में ...

चुनाव आयोग को नहीं मिले सबूत, कांग्रेस का था एमपी में 60 लाख फर्जी वोटर्स का दावा

67
SHARE

मध्य प्रदेश में चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस के फर्जी वोटर के दावे को चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया है। जांच टीम ने अपनी रिपोर्ट में मतदाता सूची में फर्जी एंट्री का मामला नहीं पाया है।

जांच के बाद आयोग ने कहा कि आरोपों में दम नहीं है, वोटरों की संख्या में वृद्धि सामान्य है, तस्वीर रिपीट होने से जुड़ी गलतियों को ठीक किया जा रहा है. जांच के बाद कमेटी ने कांग्रेस के दावे को खारिज कर दिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि पिछले रविवार को कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में वोटर लिस्ट के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए दावा किया था कि प्रदेश में करीब 60 लाख वोटर फर्जी हैं। पार्टी का दावा था कि मध्यप्रदेश में 24 प्रतिशत आबादी बढ़ी है, लेकिन वोटरों की संख्या में 40 प्रतिशत बढ़ोत्तरी हुई है।

आयोग ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ द्वारा तीन जून को की गई शिकायत में बताए गए गड़बड़ी वाले विधानसभा क्षेत्रों नरेला, होशंगाबाद, भोजपुर और सिओनी मालवा में मतदाता सूचियों की विस्तृत जांच कराई।

आयोग ने रिपोर्ट में बताया गया है कि कुछ मामलों में एक ही मतदाता के डबल एंट्री जरूर हैं. रिपोर्ट में कुछ मामले मृतक, शिफ्ट करनेवाले मतदाताओं के भी पाए गए हैं।
यह भी बताया गया कि ज्यादातर डबल एंट्री को 2015-16 के बाद हटाया जा चुका है। 2015-16 में डबल एंट्री वाले मतदाताओ की संख्या 68 लाख थी, जो मई, 2018 में 7 लाख से कम रह गयी है।

Loading...