Home महाराष्ट्र नमाज़ के बाद सिर से रुमाल हटाना भूल गया, कंपनी ने निकाला...

नमाज़ के बाद सिर से रुमाल हटाना भूल गया, कंपनी ने निकाला नौकरी से

17441
SHARE
SOURCE: PUNE MIRROR

महाराष्ट्र के पुणे में एक धर्मिक मदभेद का मामला सामने आया है.  यहाँ एक सॉफ्टवेयर इंजिनियर का कंपनी पर आरोप हा की कंपनी ने उसके साथ धार्मिक भेदभाव किया है. 37 वर्षीय अमन खान ने इस विवाद के चलते नौकरी से इस्तीफा दे दिया है. वह कनाडा की एक मल्टीनैशनल कंपनी एक्सफो के मगरपट्टा स्थित ऑफिस में पिछले तीन साल से काम कर रहे थे. आपको बता दें की इसी साल अमन प्रमोशन भी हुआ था, लेकिन इन परिस्थितियों में उन्हें नौकरी छोडनी पड़ी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमन ने जब अपने सीनियर मैनेजर के खिलाफ मुद्दे उठाया तो कंपनी ने उनकी शिकायत पर संज्ञान लेने के बजाय 12 जून को उन्हें ऑफिस से टर्मिनेट कर दिया. कोई विकल्प न होने पर अमन ने श्रम विभाग के डेप्युटी कमिश्नर के साथ मिलकर कंपनी के खिलाफ धार्मिक और मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाया और शिकायत दर्ज कर दी है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अमन ने बताया की वह एक्सफो में टेक लीडर के रूप में काम करते थे. 6 अप्रैल को शुक्रवार के दिन वह जुमे की नमाज पढ़ने मस्जिद गए थे. जब वह लौटकर आए तो सिर से रूमाल हटाना भूल गए और उसी दशा में काम करने लगे. इसके बाद उनके सीनियर मैनेजर किशोर ने अमन को बुलाया और इशारा करने लगे की उनके सिर पर रुमाल बंधा है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमन ने बताया कि, ‘मैंने इस चर्चा में अरुचि दिखाई लेकिन उन्होंने लगातार धार्मिक मुद्दे पर बोलना जारी रखा और मेरे पहनावे और धार्मिक रीति-रिवाज पर टिप्पणी करने लगे.’ अपने सीनियर मैनेजर की बातों से आहत होकर अमन कंपनी के एचआर के पास शिकायत लेकर गए लेकिन उन्हें वहां भी उनकी मदद नहीं की गयी.

इतना ही नहीं इस धार्मिक भेदभाव की लड़ाई में कंपनी का पूरा पुणे मैनेजमेंट ही मुद्दे में शामिल हो गया. अमन ने बताया, मैनेजमेंट ने मेरे साथ कई मीटिंग भी की ताकि मैं अपनी शिकायत वापस लेने के लिए मान जाऊं लेकिन जब उन्हें कोई सफलता नहीं मिली तो उन्होंने मुझे 12 जून को कंपनी से निकालना ही उचित समझा.

अमन ने जब कनाडा स्थित कंपनी के हेड ऑफिस में भी बात करने की कोशिश की,लेकिन किसी से वहां भी उन्हें मदद नहीं मिली. इस मुद्दे पर एक्सफो की ओर से कृष्ण मूर्ति ने कहा, ‘एक्सफो अपने सभी कर्मचारियों के बीच समानता का भाव रखता है, उन्हें उनके धार्मिक विश्वास और मूल्यों का पालन करने की आजादी देता है. हम अपने कर्मचारियों का सम्मान करते हैं और हमें गर्व है कि हमारे पास विविध कार्यबल है.

Loading...