Home झारखण्ड जमशेदपुर मोब लिंचिंग मामले में 12 आरोपियों को 4-4 साल की सजा

जमशेदपुर मोब लिंचिंग मामले में 12 आरोपियों को 4-4 साल की सजा

1042
SHARE

सरायकेला-खरसावां जिले के राजनगर प्रखंड के शोभापुर में बच्चा चोर की अफवाह पर चार लोगों की ग्रामीणों द्वारा पीट-पीट कर हत्या करने के दौरान प्रशासन को कार्रवाई करने से रोकने और गाड़ियां जलाने के मामले में 12 आरोपियों को चार-चार साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाई गई है।

शोभापुर में 18 मई 2017 काे राज्य को दहला देने वाली घटना में डिस्ट्रक्ट जज-1 आशीष सक्सेना ने IPC की धारा 147, 148, 149, 353 व 452, 323, 504, 506 के तहत दोषी करार देते हुए कृष्णा साहू, भागीरथी ज्योतिषी, कुंदा ज्योतिषी, फाल्गुनी ज्योतिषी, तरुण ज्योतिषी, अरुण ज्योतिषी, कृष्णा ज्योतिषी, कान्हु ज्योतिषी, चतुर्भुज साहू, लालटू लोहार, सीताराम साहू व बड़ाकान्हु ज्योतिषी को सजा सुनाई। सभी पर दो-दो हजार का जुर्माना भी लगाया है। जबकि साक्ष्य के अभाव में लक्ष्मीकांत बेहरा उर्फ भुटन, अगस्ती साहू व पंकज कुमार नाग को बरी कर दिया गया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि 18 मई 2017 काे बच्चा चोरी की अफवाह में हिंसक भीड़ ने मो. हलीम, मो. नईम सहित चार बेगुनाहों को पीट-पीटकर मार डाला था। भीड़ ने गांव के मो. मुर्तजा अंसारी के घर हमला किया। बेगुनाहों को बचाने गई पुलिस पर भी हमला हुआ। पुलिस वाहन में तोड़फोड़ कर उसे जला डाला गया।

तत्कालीन अंचलाधिकारी राजीव नीरज के बयान पर नाजायज मजमा बना हथियार से लैस हमला, मारपीट-तोड़फोड़, सरकारी काम में बाधा डालने का मामला दर्ज हुआ था  इस मामले को सरकार की ओर से त्वरित निष्पादन के लिए महत्वपूर्ण आपराधिक कांड की सूची में रखा गया था, इसीलिए मामले पर स्पीडी ट्रायल के तहत अदालत में सुनवाई की गई। इस मामले का अनुसंधान कर रहे पुलिस पदाधिकारी द्वारा समय पर अदालत में आरोप पत्र समर्पित किया गया था।

Loading...