No menu items!
23.1 C
New Delhi
Wednesday, October 20, 2021

यमन के जुड़वाँ बच्चों को देख पसीज जाएगा आपका भी दिल, मदद का इंतजार

सिर से जुड़े हुए जन्मे जुड़वा युसेफ और यासिन को सामान्य जीवन जीने के लिए बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। खासतौर पर तब जब उनका गरीब परिवार उनके लिए मदद हासिल करने में असफल रहा।

जन्म के सात महीने बाद, दोनों जुड़वाँ बच्चे अभी भी गंभी’र स्थिति में हैं।

यमन शबाब के एक रिपोर्टर ने वादी हदरामौत और सहारा की राजधानी सयून शहर के तारिस क्षेत्र में जुड़वा बच्चों के घर का दौरा किया। उन्होने अपनी रिपोर्ट में बताया कि बच्चे का परिवार बेहद ही गरीब है। उनके घर में कुछ भी नहीं है।

उन्होने बताया कि दोनों बच्चे सिर से जुड़े होने के कारण वे किसी भी दिशा में जाने में असमर्थ होते हैं, सिवाय हवा में हाथ उठाने के। इस उम्र में न तो उनमें किसी बच्चे की तरह बैठने या रेंगने की क्षमता है।

जब यासिन अपने भाई युसेफ की आवाज़ सुनता है, तो वह व्यर्थ घूमने या लुढ़कने की कोशिश करता है, जबकि युसेफ को अपने भाई के हिलने-डुलने के प्रयास के कारण उसकी गर्दन पर दबाव महसूस होता है, इसलिए वह चिल्लाता है और बेबस होकर रोने लगता है।

बच्चों की माँ समर याह्या ने बताया कि वह अपने दो लड़कों के लिए गहराई से व्यथित महसूस करती है। उन्होने कहा कि वह उसके दो बच्चों को दूध और बिस्कुट खिलाने से वह तड़प उठती है। यासिन और युसेफ के दुख को समाप्त करने के लिए उन्हे सर्ज’री से गुजरना पड़ेगा। हालाँकि, इस प्रक्रिया को बेहद जोखिम भरा माना जाता है और जो यमन में मुमकिन भी नही है।

जुड़वा बच्चों के दादा के अनुसार, सऊदी अरब के रियाद में किंग सलमान केंद्र में इस प्रक्रिया को करने के लिए सबसे सक्षम विशेषज्ञ हैं। वार ने जुड़वां बच्चों को बचाने के लिए सऊदी अरब में यमनी सरकार और अधिकारियों से अपील शुरू की है।

दादाने कहा, “हमारे पासपोर्ट और सामान तैयार हैं और हम केवल यात्रा की तारीख का इंतजार कर रहे हैं,” “उम्मीद है कि बहुत देर नहीं होगी, इस तथ्य को देखते हुए कि बच्चों की स्थिति हर दिन बिगड़ रही है।”

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,986FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts