UAE ने रचा इतिहास, मार्स पर अंतरिक्ष यान भेजने वाला पहला अरब मुल्क

अगले कुछ हफ्तों तक तीन देशों की सांसें थमने वाली हैं। क्योंकि, इसी महीने तीन देशों का मंगल मिशन ‘लाल ग्रह’ की कक्षा में प्रवेश कर रहा है। ये तीन देश हैं- संयुक्त अरब अमीरात, चीन और अमेरिका। इन तीनों देशों ने पिछले साल जुलाई में अलग-अलग मिशन पृथ्वी के सबसे नजदीकी ग्रह की ओर रवाना किया था। इनमें से यूएई का मंगल यान मंगलवार को ही लाल ग्रह की कक्षा में पहुंचने वाला है और उसके कुछ ही दिनों बाद चीन का मिशन भी पहुंचने वाला है।

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के मंगल मिशन का नाम है ‘होप’, जिसे 20 जुलाई, 2020 को जापान के तनेगाशिमा स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया था। ‘होप’ जैसा कि ना से ही स्पष्ट है कि इससे यूएई को काफी उम्मीदें हैं। ‘होप’ अरब देशों का इस तरह का पहला स्पेस मिशन है। इसका लक्ष्य वैज्ञानिकों के लिए मंगल के वातावरण की पुख्ता जानकारी उपलब्ध कराना है। 9 फरवरी, 2021 यानी मंगलवार को ही ‘होप’ मंगल ग्रह की कक्षा में प्रवेश करने जा रहा है। यह प्रक्रिया पूरी तरह से स्वचालित होगी। हालांकि, इस मिशन से जुड़े प्रवक्ता ने इस प्रक्रिया को मिशन का सबसे खतरनाक ऑपरेशन बताया है। वैज्ञानिक उम्मीद जता रहे हैं कि सारी प्रक्रिया सही-सलामत पूरी हो जाए।

मंगल की कक्षा में प्रवेश करने वाले दूसरा मिशन चीन का तियानवेन-1 है। चाइनीज में तियानवेन का अर्थ है- स्वर्ग से सवाल। यह उसका भी पहला स्वतंत्र मंगल अभियान है। इसे यूएई के तीन दिन बाद यानी 23 जुलाई ,2020 को हैइनान प्रांत के वेंचैंग स्पेस लॉन्च सेंटर से भेजा गया था। तियानवेन-1 के भी इसी हफ्ते मंगल की कक्षा में पहुंचने की उम्मीद है। चीन का मंगल मिशन भी लाल ग्रह के वातावरण का पता लगाएगा। लेकिन, इस मिशन का मुख्य हिस्सा मई में पूरा होना है, जब इसके रोवर को मंगल के दक्षिणी हिस्से या यूटोपिया प्लैनिटिया की सतह पर सॉफ्ट-लैंड कराने की योजना है। चीन का यह मिशन चीन के भविष्य की योजना पर आधारित है, जिससे कि वह मंगल से उसकी चट्टान और मिट्टी धरती पर ला सके।