अब खाड़ी देश में बसना हुआ आसान, अरब में नौकरी के साथ मिलेगी नागरिकता, जानिए कैसे?

कोरोना संक्रमण ने सभी लोगों को घरों में रहने को मजबूर कर दिया था. जिसकी वजह से ट्रैवल इंडस्ट्री (Travel Industry) को भारी नुकसान झेलना पड़ा था लेकिन अब धीरे-धीरे लोग घरों से घूमने के लिए निकलने लगे हैं. वैसे भी कोरोना वायरस ने अधिकतर देशों की अर्थव्यवस्था (Economy) को नुकसान पहुंचाया था. जिसमें संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की अर्थव्यवस्था भी थी. अब संयुक्त अरब अमीरात ने अपनी अर्थव्यस्था को सुधारने के लिए कुछ बड़े एलान किए हैं.

दरअसल, संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने अपने यहां आने वाले निवेशकों और वैजानिक, डॉक्टर, इंजीनियर जैसे पेशेवर लोगों को परिवार सहित नागरिकता लेने की प्रक्रिया को आसान बना दिया है. संयुक्त अरब अमीरात ने नागरिकता कानूनों में संशोधन का फैसला लिया है. विदेश में बसने की ख्वाहिश रखने वालों के लिए ये एक बेहद अच्छी खबर है. भारत के अलग-अलग क्षेत्रों से हर वर्ग के लोग रोजगार के लिए संयुक्त अरब अमीरात जाते हैं.

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने जिन विदेशियों के लिए नागरिकता (Citizenship) प्रक्रिया को आसान किया है. उनमें निवेशक, डॉक्टर, इंजीनियर, वैज्ञानिक, कलाकार, विशेष प्रतिभा वाले लोग, लेखक और उनके परिवार के लोगों समेत अन्य शामिल हैं. इस बात की जानकारी दुबई के शासक शेख मुहम्मद बिन राशिद अल मख्तूम (Sheikh Mohammed bin Rashid Al Maktoum) ने ट्वीट करके दी.

यह कानून संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के वर्तमान पासपोर्ट वाले लोगों को यह नागरिकता देगा लेकिन अभी नए पासपोर्ट धारकों को नागरिकता की सुविधा मिलेगी या नहीं यह साफ नहीं है. साथ ही यूएई सरकार अपनी वीजा पॉलिसी (Visa Policy) को भी और लचीला बनाने जा रही है. जिससे यूएई में निवेशक, छात्र और पेशेवर लंबे समय तक रह सकें. आपको बताया दें कि उत्तर भारत के ज्यादातर लोग नौकरी के उद्देश्य से दुबई जाते हैं.