No menu items!
23.1 C
New Delhi
Sunday, December 5, 2021

अफ्रीकी मुल्कों से बोले एर्दोगान – दुनिया को मुट्ठी भर पांच देशों के रहमो-करम पर नहीं छोड़ सकते….

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने अफ्रीका के चार दिवसीय राजनयिक दौरे की शुरुआत करते हुए अंगोला की संसद में कहा कि विश्व व्यवस्था अन्या’यपूर्ण है और द्वितीय विश्व यु’द्ध जीतने वाले “मुट्ठी भर देश” इस पर हावी है।

एर्दोगन ने अंगोलन के सांसदों से कहा, “मानवता के भाग्य को दो विश्व यु’द्ध जीतने वाले मुट्ठी भर देशों की दया पर नहीं छोड़ा जाना चाहिए।” संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों की संख्या का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, “आज हमारी दुनिया पांच देशो से बड़ी है।’

एर्दोगन ने कहा, तुर्की अफ्रीका के लोगों को “बिना किसी भेदभाव के” गले लगाता है। उन्होने कहा, पश्चिमी देशों के विपरीत, “तुर्की के इतिहास में उपनि’वेशवाद का कोई दाग नहीं है।” तुर्क साम्राज्य, जिसे 1923 में तुर्की गणराज्य ने बदल दिया, उत्तरी अफ्रीका और मध्य पूर्व पर शासन करता था।

एर्दोगन ने भाषण में कहा,”जबकि दुनिया और हमारे जीवन का लगभग हर पहलू बदल रहा है, और कूटनीति, व्यापार और अंतर्राष्ट्रीय संबंध आमूल-चूल परिवर्तनों से गुजर रहे हैं, हम यह नहीं सोच सकते हैं कि वैश्विक सुरक्षा वास्तुकला समान रहेगी।”

बता दें कि इससे पहले तुर्की के राजनयिक वोल्कन बोज़किर, जिन्होंने पिछले एक साल में संयुक्त राष्ट्र महासभा की अध्यक्षता की थी, ने एक “अधिक लोकतांत्रिक” सुरक्षा परिषद की वकालत की है जो “21 वीं सदी की वास्तविकताओं को बेहतर ढंग से प्रतिबिंबित करेगी”,

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
3,041FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

error: Content is protected !!