Home अन्तर्राष्ट्रीय फिलिस्तीनी राष्ट्रपति की इजराइल और अमेरिका को चेतावनी: “अब फिलिस्तीन उठाएगा...

फिलिस्तीनी राष्ट्रपति की इजराइल और अमेरिका को चेतावनी: “अब फिलिस्तीन उठाएगा गंभीर और खतरनाक कदम”

226
SHARE

दिसंबर में, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने यरूशलेम को इजरायल की राजधानी के रूप में पहचानने के अपने फैसले की घोषणा की थी और वर्तमान में तेल अवीव में स्थित अमेरिकी दूतावास को जेरुसलम में स्थानांतरित करने की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दिया था. इस कदम ने कई राज्यों, विशेष रूप से फिलिस्तीन और मिडिल ईस्ट में विरोध प्रदर्शन की लहर को जन्म दिया था, जिसके बाद कई जगह ट्रम्प के खिलाफ नारेबाजी और विरोध प्रदर्शन किया गया.

अब्बास ने दी चेतावनी 

फिलिस्तीनी राष्ट्रपति अब्बास ने एक टीवी इंटरव्यू में चेतावनी दी है कि “फिलिस्तीन जल्द ही इजरायल और संयुक्त राज्य अमेरिका के खिलाफ “गंभीर और खतरनाक कदम उठाएगा”.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब्बास ने एक टेलीविजन बयान में कहा की “हम जल्द ही अपने पड़ोसियों और संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ संबंधों में गंभीर कदम उठाएंगे और आप यह देखना जरुर, यह कदम गंभीर और खतरनाक होंगे.”

अमेरिका ने ही अरब दुनिया को विभाजित करने के लिए अरब लहर को उकसाया 

अब्बास ने यह भी कहा कि अरब दुनिया को विभाजित करने के उद्देश्य से वाशिंगटन ने अरब लहर को उकसाया था.

अब्बास ने कहा, “अरब लहर एक झूठ है जिसका आविष्कार संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा अरब देशों को विभाजित करने के लिए किया गया था.”

विरोध प्रदर्शन जारी रखने का है इरादा 

फिलिस्तीन विदेश मंत्री रियाद मालिकी ने बुधवार को कहा कि फिलिस्तीन गाजा पट्टी में अपने शांतिपूर्ण सामूहिक विरोध प्रदर्शन जारी रखने का इरादा रखता है और 14 मई के लिए निर्धारित अमेरिकी दूतावास के यरूशलेम में जाने के दिन वेस्ट बैंक में इसी तरह की रैलियों की शुरुआत करेगा.

अब्बास ने इजरायल-फिलिस्तीनी संघर्ष को हल करने के लिए 2018 के बीच में एक अंतरराष्ट्रीय परिषद बनाने के लिए भी कहा .

उन्होंने कहा की “शांति समझौते के लिए हमारे प्रस्ताव इस प्रकार हैं. यह प्रस्ताव 2018 के बीच में एक अंतरराष्ट्रीय परिषद बनाने के लिए. संयुक्त राष्ट्र में फिलिस्तीन को पूर्ण देश पहचानने के लिए, सभी एकपक्षीय उपायों को रोकने के लिए जो शांति समझौते की उपलब्धि को रोकते हैं, फिलिस्तीनियों के साथ शांति समझौते तक पहुंचने के बाद अरब शांति योजना को पहचानने के लिए. दो राज्यों के सिद्धांत को दो जून से पहले मौजूद सीमाओं के भीतर दो लोगों के सिद्धांत को अपनाने के लिए हैं.

अब्बास ने कहा की “जब तक पूर्वी जेरुसलम को फिलिस्तीन की राजधानी के रूप में मान्यता नहीं दी जाती है तब तक इस क्षेत्र में शान्ति संभव नहीं है.”

Loading...