इस महिला ने अपने जीवन के 32 साल संघर्ष कर, सिल दिया पूरा पवित्र कुरान

0
740

इस्लामी धर्म की आखिरी किताब पवित्र कुरान है और सबसे माननीय किताब है। आपको बता दे की मुस्लमान कुरान को बहुत पवित्र मानते है। कुरान पैगंबर (صلى الله عليه وسلم) पर प्रकट ही थी और कुरान सभी समस्याओं के लिए, सभी समय के लोगों के लिए सबसे अच्छा मार्गदर्शन करती है।

पैगंबर मुहम्मद (صلى الله عليه وسلم), पवित्र कुरान और इस्लाम धर्म के लिए लोग अलग-अलग पहलुओं में अपना स्नेह दिखाता है। लेकिन हम आपको जिस महिला के बारे में बताने जा रहे है उन्होंने अपना स्नेह कुछ यूँ पूरी दुनिया के सामने रखा की पूरी दुनिया हैरान हो गई है। आइये जानते है की इस महिला ने ऐसा क्या किया?

विज्ञापन

इनका नाम नसीम अख्तर हैं यह पाकिस्तान के गुजरात की रहने वाली है। नसीम अख्तर ने अपने प्रयास, समय और समर्पण के बाद पूरी दुनिया में पहली बार हाथ से सिले कुरान को सिलने का सम्मान प्राप्त किया। आपको बता दे की वह पिछले 32 साल से अकेले ही कुरान की सिलाई कर रही थी।

नसीम अख्तर एक युवा महिला थी जब उनके दिमाग में आया पवित्र कुरान को सिलने का विचार आया था, लेकिन लेकिन इसको बनाने में उनको पुरे 32 वर्ष का समय लग गया। वह अपने द्वारा किए गए काम से बहुत खुश है और गर्व महसूस कर रही है। रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा की

“मुझे कुरान को पूरा करने में कितना समय लगेगा, इस बात की परवाह किए बिना पूरी शिद्दत के साथ सिलना शुरू कर दिया। इस नेक कार्य को पूरा करने के लिए पर्याप्त साहस देने के लिए मैं सर्वशक्तिमान अल्लाह की शुक्रगुजार हूं। मैं इस बार बहुत खुश हूं की मैं जितना अपने पूरे जीवन में कभी खुश नहीं रही। मेरे जीवन में किसी भी चीज ने मुझे इतना सुकून और खुशी नहीं दी, जितनी इस काम के पूरा होने से मुझे मिली है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here