Home अन्तर्राष्ट्रीय देखे वीडियो: जब एर्दोगान एक मजदूर के घर रोजा इफ्तार के लिए...

देखे वीडियो: जब एर्दोगान एक मजदूर के घर रोजा इफ्तार के लिए पहुंचे

289
SHARE

नईम अख्तर

इफ़्तार से चंद मिनट पहले तुर्की की दारूल हुकूमत अंकारा के एक गरीब इलाके में मौजूद एक मजदूर के घर की घंटी बजती है घर के मालिक 53 साला यलदरम जलैक जब दरवाजा खोलकर देखते हैं तो उनके हैरत का कोई ठिकाना नहीं रहता उन्हें अपनी आंखों पर यकीन ही नहीं आता और देखते हैं कि दरवाजे पर मुल्क में सदर रजब तैयब एर्दोगान और उनकी बीवी सैयदा अमीना एर्दोगान खड़े हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

यलदरम जलैक की हैरत को भांपते हुए तुर्क सदर उन्हें तसल्ली देकर कहते हैं कि आज हम आपके मेहमान हैं आपके परिवार के साथ इफ्तार करेंगे यह सुनकर मेजबान खुशी से फूले नहीं समाते वह फौरन वापस जाकर अपने घरवालों को यह खुशखबरी देते है कि एक बहुत बड़े मेहमान की आमद है. गरीब यलदरम के परिवार ने अपने हैसियत के मुताबिक इफ्तार का मामूली इंतजाम कर रखा था घर के आठ अफराद दस्तरख्वान पर बैठे थे और इफ्तार के लिए खजूर पानी दूध और संतरा के अलावा दस्तरखान पर और कुछ नहीं था इसलिए परिवार के चेहरों पर अजीम मेहमान की आमद पर खुशी के साथ-साथ परेशानी के आसार भी नुमाया थे. मगर तुर्क सदर और उनकी बीवी बिला किसी तकलीफ के यलदरम के अहले खाना के साथ दस्तरखान पर बैठ कर दुआ में मशरूफ हो गए. यलदरम के अहले खाना को भी यकीन नहीं आ रहा था कि मुल्क का सदर और उनकी बीवी उनके घर में मौजूद और उनके साथ इफ्तार में शरीक है. नाकाबिल यकीन मंजर देखकर यलदरम और उनकी परिवार की आंखों से खुशी के आंसू निकल आए यलदरम और उनके परिवार ने सदर और उनकी बीवी को खुले दिल से खुशामदीद कहा.

Posted by Naeem Akhtar on Wednesday, May 23, 2018

तुर्की प्रेस के मुताबिक अंकारा के इलाके को एक सब्जी मंडी में मेहनत मजदूरी करते हैं. यलदरम जलैक और उन्हें हर दिन 60 लैरा तुर्की करेंसी मजदूरी मिलती है. जो कि 22 अमेरिकी डॉलर के बराबर हैं. यलदरम जलैक के घर में तुर्क सदर के आने बाद यह भी मालूम हुआ कि वह किराए के मकान में रहते हैं जिस का किराया 1 महीने का 360 लैरा अदा करते हैं जोकि 135 अमेरिकी डॉलर होता है.  इफ्तार के बाद सदर और उनकी बीवी यलदरम के अहले खाना के साथ घुलमिल गए और उनसे उनके मसाइल भी पूछे यलदरम ने सदर को बताया कि उनके 5 बच्चे हैं. क्योंकि उनकी कमाई बहुत थोड़ी है इसलिए मैं अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में तालीम दिलवा रहे हैं.

Bugün iftarda Hüseyin Cahit Sargın amcamızın ve ailesinin evine misafir olduk. Alicenap milletimizin sofralarından Ramazan bereketi hiç eksik olmasın.

Posted by Recep Tayyip Erdoğan on Tuesday, May 22, 2018

दिलचस्प बाते हैं कि पांचवें रोजे के दिन इफ्तार के वक्त सदर एर्दोगान के यलदरम के मेहमान बनने पर इसी दिन यलदरम सबसे छोटे बेटे का पहला रोजा था. इस मौके पर अचानक मुल्क के सदर की आमद ने यलदरम के अहले खाना की खुशियों को दोगुना कर दिया. सदर ने पहला रोजा रखने पर यलदरम के बच्चे को नगद इनाम के साथ कीमती तोहफे भी दिए. जिस पर यलदरम के बाकी बच्ची सदर के दिये तोहफे को देख रहे थे तो उन्होंने घर के दिगर बच्चों को भी एक-एक लैपटॉप और टैबलेट दिया. इफ्तार के बाद यलदरम के घर से रुखसत होने से पहले उनके पड़ोसियों को भी खबर लग गई कि मुल्क का सदर उनके पड़ोस में आया है इसलिए यलदरम के बहुत सारे पड़ोसी भी उनके घर में जमा हो गए और सदर के साथ ईशा की नमाज तक लंबी बातचीत की और अपने-अपने मसले से आगाह किया.

इस दौरान एर्दोगान के सेकेट्री समेत कुछ सरकारी अधिकारी भी यलदरम के घर पहुंच चुके थे. तुर्क प्रेस के मुताबिक रजब तैयब एर्दोगान और उनकी बीवी अपनी पहली इफ्तारी तुर्की में बने रिफ़्यूजी कैम्प जिसमें सीरिया के बच्चे हैं उनके साथ इफ्तार किया उन्होंने गरीब और अमीर का फर्क मिटाकर मुल्क में गरीबों के घर इफ्तार करने का मामूल बना लिया है. अब तक वह इफ्तार के वक्त 5 मर्तबा गरीबों के घर मेहमान बनकर उनके साथ इफ्तार में शरीक हो चुके हैं. सदर एर्दोगान और उनकी बीवी इफ्तार से कुछ देर पहले अपनी गाड़ी में सदारती महल से निकलकर शहर के किसी भी गरीब इलाके में निकल जाते हैं. जहां वह किसी भी शहरी के घर दरवाजे की घंटी बजाते और अहले खाना के साथ मिलकर इफ्तार करते हैं. इसी दौरान सदर एर्दोगान अहले खानां से उनके मसाइल पूछकर उन्हें हल भी करते हैं.

Loading...