शर्मनाक: मदीना की पाक जमीं पर अभ’द्र कपड़ों में हुआ ‘Vogue’ का फ़ोटो शूट

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने मदीना प्रांत में होने वाले अंतरराष्ट्रीय मॉडलों से संबंधित एक विवादित फोटोशूट की अनुमति दी। जिसके बाद दुनियाभर के मुस्लिमों ने सऊदी सरकार के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया है। मदीना शरीफ़ के अल उला में यह फोटोशूट किया गया। इस फोटोशूट को ’24 hours in Al Ula’ नाम दिया गया।

9 जुलाई 2020 को वोग अरब ने एक दिन का अभियान न्यू यॉर्क के लेबल मोनोट के लिए फोटोशूट किया गया। इसमें मॉडल्स को अभ’द्र ड्रेसेस में देखा गया।

 

मीडिया रेपोर्ट के मुताबिक़, सऊदी ने हाल ही में पवित्र शहर मदीना के क्षेत्र में इस तरह के अनुचित फोटोशूट की अनुमति देकर एक वि’वाद को आगे बढ़ाया। सोशल मीडिया पर इस कदम की जमकर आ’लोचना हो रही है और सऊदी सरकार के खिला’फ वि’रोध भी जारी है। लोगों का कहना है कि यह अधिनियम इस्लाम के खि’लाफ है और अनैति’क है।

इसके अलावा, शूट का मुख्य विचार और इस्तेमाल किए गए आउटफिट्स को मुस्लिमों द्वारा अनैतिक माना जाता है। इसके अलावा, यूनेस्को के विश्व विरासत क्षेत्र में एक ही मॉडल चला गया। इसे दुनिया के सबसे बड़े खुले क्षेत्र संग्रहालय के रूप में जाना जाता है। इसमें जॉर्डन के पेट्रा के समान नक्काशीदार चट्टान के टुकड़े शामिल हैं।

इस तथ्य के बावजूद कि अल उला मदीना से लगभग 300 किलोमीटर दूर स्थित है, यह अभी भी मदीना प्रांत के भीतर मौजूद है। बहुत सारे मुसलमान इसे अनै’तिक मानते हैं और सऊदी अधिकारियों द्वारा दी गई अनुमति से नाराज़ भी हैं।

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया के मुताबिक़, यह विवादास्पद फोटोशूट सुधारों के विषय में प्रगति के भाग के रूप में दिखाई देता है। राष्ट्र आधुनिकीकरण और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए अपनी अर्थव्यवस्था को व्यापक बनाने के लिए इसका अनुसरण कर रहा है। ‘अल उला में 24 घंटे’ 2030 के लिए सऊदी अरब की दृष्टि का हिस्सा है।

वोग का अरब संस्करण यानी वोग अरब अमेरिका स्थित एक पत्रिका का अनुसरण करता है। इसे हाल ही में अंतरराष्ट्रीय मॉडलों के लिए एक रूखे फोटोशूट को अंजाम देने की अनुमति मिली। इसमें मरिअकार्ला बोस्कोनो, केट मॉस, जर्सडॉन डन, जिओ वेन, एम्बर वाल्लेट्टा, एंपर वीक और कैंडिस स्वानेपेल शामिल रहीं।