मानवता को भूल बैठा अमेरिका, कोरोनोवायरस प्रकोप के बीच ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध

दुनिया भर में मानवता पर उपदेश देने वाला अमेरिका इंसानियत को भी भूल बैठा है। कोरोनोवायरस प्रकोप के बीच ईरान पर प्रतिबंधों के एक नए दौर की घोषणा की है।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने मंगलवार को कहा कि वाशिंगटन ने ईरानी पेट्रोकेमिकल्स में व्यापार करने के लिए “महत्वपूर्ण लेनदेन” कहे जाने के लिए तीन ईरानी संस्थाओं को ब्लैकलिस्ट कर दिया। हालांकि उन्होंने किसी भी फर्म या व्यक्तियों का नाम नहीं दिया।

पोम्पेओ ने कहा कि माप में ईरान की सशस्त्र बलों की सामाजिक सुरक्षा निवेश कंपनी और इसके निदेशक को मंजूरी दे दी गई संस्थाओं में निवेश के लिए ब्लैकलिस्ट करना शामिल है। एक अलग बयान में, अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने भी कहा कि वह तेहरान के परमाणु कार्यक्रम के लिए पांच ईरानी परमाणु वैज्ञानिकों सहित कई संस्थाओं का बहिष्कार करेगा।

ईरान और प्रमुख विश्व शक्तियों के बीच हस्ताक्षरित संयुक्त व्यापक योजना (JCPOA) के 2015 परमाणु समझौते को छोड़ने के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मई 2018 में ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों को बहाल कर दिया। अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) – जिसे विश्व न्यायालय के रूप में जाना जाता है – ने अमेरिका को ईरान को मानवीय आपूर्ति पर अवैध रूप से लगाए गए प्रतिबंधों को हटाने का आदेश दिया है।

पिछले हफ्तों में, अमेरिका के लिए अपने अवैध प्रतिबंधों को हटाने के लिए दुनिया के मंच पर कॉल बढ़ रही हैं, जिसने उस समय ईरान की स्वास्थ्य प्रणालियों को बुरी तरह प्रभावित किया है जब सभी देश महामारी के खिलाफ सेना में शामिल होने की कोशिश कर रहे हैं।

नए प्रतिबंध चीन और रूस के रूप में आते हैं, विशेष रूप से, अमेरिका ने तेहरान पर अपने प्रतिबंधों को हटाने का आग्रह किया है क्योंकि प्रतिबंध ईरान द्वारा देश में कोरोनावायरस के प्रकोप को रोकने के प्रयासों में हस्तक्षेप कर सकते हैं। बता दें कि ईरान में, कोरोना के संक्रमणों की कुल संख्या 16,169 तक पहुंच गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, 135 समाचार मौ’तों के साथ, मंगलवार को घातक संख्या बढ़कर 988 हो गई। कुल 5,389 मरीज पूरी तरह से ठीक हो गए हैं।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]