विवादित डील के बाद अब यूएई तेल अवीव में दूतावास स्थापित करने जा रहा

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) तेल अवीव में एक दूतावास की स्थापना करेगा। इस बात की जानकारी खुद विदेश मंत्री अनवर गर्गश ने गुरुवार को यूएस-आधारित अटलांटिक काउंसिल थिंक-टैंक के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस में दी।

गर्गश ने कहा कि जब इजरायल के साथ डील पर हस्ताक्षर किए गए हैं, जिसकी घोषणा पिछले सप्ताह की गई थी, “अबू धाबी का दो राज्यों के समाधान के लिए अंतरराष्ट्रीय सहमति पर आधारित तेल अवीव में अपना दूतावास होगा।”

उन्होंने कहा, “यह बहुत स्पष्ट है। दूतावास तेल अवीव में ही होगा।” यूएई-इजरायल डील की उपलब्धियों के बारे में पूछे जाने पर, उन्होंने कहा: “सबसे ठोस उपलब्धि फिलिस्तीनी भूमि के विनाश को रोकने के लिए थी।” हालांकि यूएई ने दो-राज्य समाधान के प्रति प्रतिबद्धता को दोहराया।

गर्गश ने कहा कि समझौते में दीर्घकालिक लाभ हैं, और निश्चित रूप से, इस कदम से अवसर पैदा होंगे। हमारी अर्थव्यवस्था इज़राइल से बड़ी है। इज़राइल के लिए भी यहाँ महान अवसर हैं।

F-35 खरीद अनुरोध पर उन्होंने कहा कि यह सौदा अमेरिका से F-35 फाइटर जेट खरीदने का भी मार्ग प्रशस्त करता है जिसे यूएई ने स्पष्ट रूप से खरीदने का अनुरोध किया था। “हमारा पहला अनुरोध छह साल पहले था। हमारा कानूनी अनुरोध मेज पर है। उन्होंने कहा कि अनुरोध का इस सौदे से कोई लेना-देना नहीं है।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE