No menu items!
26.1 C
New Delhi
Sunday, October 17, 2021

बड़ा खुलासा: तुर्की, यूएई, सऊदी और मिस्र उइगर मुस्लिमों को भेज रहे चीन

सीएनएन ने अपनी रिपोर्ट में बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि तुर्की, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र और सऊदी अरब उइगर मुसलमानों को चीन भेज रहे हैं। जिससे बीजिंग की उइगर तक बढ़ती पहुंच को लेकर चिंता बढ़ रही है।

रिपोर्ट के अनुसार, सऊदी अरब में 2018 और 2020 के बीच, इस्लाम के सबसे पवित्र शहरों में उमराह करने के बाद कम से कम एक उइगर मुस्लिम को कथित तौर पर हिरा’सत में लिया गया और निर्वासित कर दिया गया। एक अन्य को उमराह पूरा करने के बाद गिर’फ्तार किया गया और निर्वासन का सामना करना पड़ा।

ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) की वरिष्ठ चीन शोधकर्ता माया वांग ने सीएनएन को बताया, “इनमें से बहुत सी सरकारें मानवाधिकारों की परवाह नहीं करती हैं।” “वे अनिर्वाचित सरकारें हैं जो अपने नागरिकों को उनके देशों में सताती हैं। जब उइगरों के निर्वासन की बात आती है तो कानून और लोकतंत्र का कोई वास्तविक शासन नहीं होता है।”

अप्रैल में, एचआरडब्ल्यू द्वारा जारी एक रिपोर्ट ने उइगरों के खिलाफ मानवाधिकारों के हनन पर प्रकाश डाला  पिछले नवंबर में, एक उइगर व्यक्ति जिसने दावा किया था कि वह चीनी अधिकारियों को साथी उइगरों के बारे में सूचित करने के लिएवह मजबूर था, इस्तांबुल में गो’ली लगने के बाद अस्पताल में उसे गंभीर स्थिति में छोड़ दिया गया था।

उइगर, मुख्य रूप से चीन के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र झिंजियांग से मुस्लिम तुर्क-भाषी जातीय समूह है। ज हाल के वर्षों में चीनी अधिकारियों द्वारा धार्मिक और जातीय उ’त्पीड़न के अधीन रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र ने पिछले साल कहा था कि दस लाख से अधिक लोगों को हिरा’सत शिविरों में रखा गया है।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,981FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts