No menu items!
26.1 C
New Delhi
Sunday, October 17, 2021

सयुंक्त राष्ट्र ने रमजान में शरणार्थियों के लिए ज़कात-सदकात के जरिए धन जुटाना किया शुरू

संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब के लोगों ने विस्थापित शरणार्थियों को आजीवन समर्थन और सहायता प्रदान करने के लिए रमजान में धन जुटाना शुरू किया है। तीसरे वर्ष के लिए, UNHCR ने ‘एवरी सेकेंड काउंट्स’ अभियान की शुरुआत की। दरअसल इस्लामी दुनिया रमज़ान के पवित्र महीने में दिल खोलकर दान करती है।

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने हामारी की मार झेल रहे कम आय वाले देशों में लाखों शरणार्थियों और आंतरिक रूप से विस्थापितों के लिए अधिक समर्थन का आह्वान करते हुए अभियान शुरू किया।

UNHCR के प्रमुख हससम चाहीन ने अल अरबिया इंग्लिश को बताया कि इस अभियान से जीसीसी के निवासियों में उदारता की बाढ़ आ गई है। उन्होंने कहा, “हर साल, UNHCR शरणार्थियों के लिए जागरूकता और धन जुटाने में मदद करने और उदारता के साथ जनता से अपील करता है कि जरूरतमंद लोगों को आंतरिक रूप से विस्थापित किया जाए।”

“शरणार्थियों और विस्थापित परिवारों के जीवन में ‘एवरी सेकेंड काउंट्स’ अभियान उन अविश्वसनीय प्रभावों पर ध्यान केंद्रित करता है जो सेकंड के भीतर पैदा कर सकते हैं, जिनका जीवन पल-पल में बदल जाता है और जिन्हें सुरक्षा की तलाश में अपने घरों से भागने के लिए मजबूर होना पड़ता है।”

अभियान का उद्देश्य ज़कात और सदाक़ाह सहित दान के माध्यम से धन जुटाना है, ताकि शरणार्थी, भोजन, स्वच्छ पानी और मासिक नकद सहायता जैसे जीवन निर्वाह सहायता, सबसे कमजोर शरणार्थी और आंतरिक रूप से विस्थापित परिवारों के लिए सीरिया, इराक, यमन, अफगानिस्तान, नाइजीरिया, बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थी के लिए मदद कर सकें।

मुस्लिम आस्था में, ज़कात हर मुसलमान के लिए अनिवार्य वार्षिक भुगतान है, जबकि सदाक़ाह एक प्रकार का इशारा है जो दूसरों की मदद करने के इरादे से किया जाता है।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,981FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts