No menu items!
28.1 C
New Delhi
Thursday, August 5, 2021

सल्तनत ए उस्मानिया का नहीं सहेंगे अपमान, तुर्की संसद के सभापति ने बिडेन को बताया

Must read

- Advertisement -

राजधानी अंकारा में एक कार्यक्रम में तुर्की संसद के सभापति ने कहा कि “तुर्की संसद के स्पीकर के रूप में, मैं अपने राज्य, राष्ट्र और इतिहास के खिलाफ [बिडेन] के इस महान निंदा को खारिज करता हूं। मैं देशों के अधिकारियों, विशेष रूप से उन लोगों को याद दिलाना चाहता हूं, जो मान’वता, ‘और नरसं’हार के खिलाफ अप’राधों का आपरा’धिक रिकॉर्ड रखते हैं।”

तुर्की के बारे में बात करते समय बहुत सावधानी बरतने की अपील करते हुए Şentop ने कहा कि 1915 की घटनाओं पर, कोई नया वैज्ञानिक और ऐतिहासिक खोज या नया मूल्यांकन नहीं है। उन्होने कहा, “केवल एक चीज जो 1915 की घटनाओं पर अमेरिका के राजनीतिक निर्णय में बदलती है।”

उन्होने कहा, “अमेरिकी राष्ट्रपति का तथाकथित ‘नरसं*हार’ का बयान एक ऐसा बयान है जो न्यायिक, राजनीतिक और ऐतिहासिक पृष्ठभूमि की अवहेलना करता है। जैसा कि यह विज्ञान और अंतर्राष्ट्रीय कानून के अमेरिकी विरोधाभासों का खुलासा करता है, बयान तुर्की और अमेरिका के बीच संबंधों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। विशेषकर मानवाधिकार, कानून की श्रेष्ठता और आपसी मित्रता में।”

उल्लेखनीय है कि शनिवार को, बिडेन ने 1915 की घटनाओं को एक “नरसं*हार,” कहा, जो अमेरिकी राष्ट्रपतियों की लंबे समय से अटकी परंपरा का इस्तेमाल करने से बचती रही। इससे पहले तुर्की राष्ट्रपति के प्रवक्ता ने भी कहा कि अमेरिका को इस सबंध में जल्द ही करारा जवाब दिया जाएगा।

इब्राहिम कालिन ने रायटर को बताया, “आने वाले दिनों और महीनों में विभिन्न रूपों और प्रकारों और डिग्री की प्रतिक्रिया होगी।” उन्होंने कहा, “जो कुछ भी हम अमेरिका के साथ आचरण करते हैं वह इस बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण बयान के तहत होगा।”

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article