तुर्की सेना ने पूर्वोत्तर सीरिया के लिए नए काफिले को रवाना किया

तुर्की के सैन्य बलों ने कथित तौर पर सीरिया के उत्तर-पूर्वी प्रांत हसाका की औरनए काफिले को रवाना किया है। अंकारा इस वर्ष की शुरुआत से सीमा पार से आक्रामक रूप से उभरा और क्षेत्र में अपनी सैन्य उपस्थिति को मजबूत करने की कोशिश कर रहा है।

सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने रिपोर्ट किया, लगभग 40 वाहनों का एक काफिला शनिवार को काफ़िर लुसीन सीमा पार करके सीरियाई क्षेत्र में पहुंचा और तुर्की की स्थिति की ओर बढ़ गया। तुर्की के रक्षा मंत्री हुलसी अकार ने 13 मार्च को घोषणा की कि रूसी और तुर्की सैन्य अधिकारियों ने अंकारा में चार दिनों की वार्ता के बाद इदलिब डी-एस्केलेशन ज़ोन में एक नए संघर्ष विराम के विवरण पर सहमति व्यक्त की है।

अकर ने कहा कि इदलिब में M4 राजमार्ग पर तुर्की और रूस द्वारा पहला संयुक्त गश्त 15 मार्च को होगा, और यह कि तुर्की और रूस क्षेत्र में संयुक्त समन्वय केंद्र स्थापित करेंगे। घोषणा के बाद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और उनके तुर्की समकक्ष रेसेप तईप एर्दोगन के बीच टेलीफोन पर बातचीत के बाद दोनों नेताओं ने पिछले सप्ताह मास्को में जिन समझौतों को लागू किया था, उनके कार्यान्वयन पर चर्चा की।

“क्रेमलिन प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है” व्लादिमीर पुतिन और रेसेप तैयप एर्दोगन ने रूसी और तुर्की के रक्षा मंत्रालयों के बीच पहले से जारी संयुक्त प्रयासों के महत्व की पुष्टि की, ताकि संघर्ष विराम और स्थिति को और स्थिर किया जा सके।बयान में कहा गया है, “व्यक्तिगत संपर्क सहित विभिन्न स्तरों पर नियमित संवाद बनाए रखने पर सहमति हुई।”

बता दें कि पिछले साल 22 अक्टूबर को, पुतिन और एर्दोगन ने एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए, जिसमें वाईपीजी आ’तंकवादियों को 150 घंटे के भीतर पूर्वोत्तर सीरिया में तुर्की-नियंत्रित “सुरक्षित क्षेत्र” से वापस लेने की आवश्यकता थी, जिसके बाद अंकारा और मॉस्को क्षेत्र के आसपास संयुक्त गश्ती दल चलाएंगे।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE