तुर्की राष्ट्रपति एर्दोगान ने दी मुस्लिमों को शबे बरात की मुबारकबाद

तुर्की के राष्ट्रपति ने शनिवार शाम को दुनिया भर के मुसलमानों को शबे बरात की मुबारकबाद पेश की। शबे बरात जिसे लैलात अल-बारात भी कहा जाता है। गुनाहों की माफ़ी की रात होती है।

रिसेप तईप एर्दोआन ने ट्विट किया, “मुझे उम्मीद है कि बरात की रात, जो रमज़ान-ए-शरीफ को याद करती है, धरती और आकाश को दया के साथ गले लगाती है, पूरे ब्रह्मांड को मोक्ष में ले जाती है, हमारे देश, मुस्लिम दुनिया और मानवता के लिए अच्छाई लाती है। हमारी रात हो सकती है।”

एर्दोआन ने पवित्र कुरान की सूरह अदा-दुखन की चौथी आयत को प्रस्तुत किया।

उपराष्ट्रपति फिएट ओकटे ने भी दुनिया भर के मुसलमानों के लिए पवित्र रात की मुबारक़बाद पेश की।

उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है कि बारात की पवित्र रात, जो रमजान-ए-शरीफ को बढ़ावा देती है, हमारे देश, मुस्लिम दुनिया और मानवता के लिए मुक्ति और अच्छाई लाती है।”

लैलात अल-बरत को उस रात के रूप में माना जाता है। जिसमे आने वाले वर्ष के लिए लोगों की किस्मत का फैसला किया जाता है और जब अल्लाह गुनहगारों को माफ़ करता है।

ट्विटर पर तुर्की के संसद अध्यक्ष ने मुस्तफा सेंटोप ने भी शबे बरात की बधाई प्रस्तुत की।