No menu items!
19.1 C
New Delhi
Sunday, December 5, 2021

पहली बार तुर्की की मुद्रा लीरा 15 प्रतिशत तक गिरी, एर्दोगन से इस्तीफे की मांग बढ़ी

तुर्की की मुद्रा लीरा में गिरावट का दौर जारी है। मंगलवार को यह गिरावट अचानक 15 प्रतिशत तक हो गई। इसके बाद से तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयब एर्दोगन से इस्तीफा मांगा है। तुर्की की मुख्य विपक्षी पार्टी के नेता ने कहा है कि उनका देश तबाही से जूझ रहा है। बीते करीब दो दशक से तुर्की की सत्ता पर काबिज एर्दोगन का तुर्की में जमकर विरोध शुरू हो गया है।

इससे पहले, गत मंगलावर को लीरा में 15 प्रतिशत की गिरावट आई थी। तुर्की में विपक्षी दल रिपब्लिकन पीपुल्स पार्टी के नेता केमाई कुलेस्तरो ने बताया कि तुर्की के इतिहास में पहले ऐसा कभी नहीं हुआ। यही नहीं तुर्की में महंगाई का स्तर भी बढ़ गया है और यह 20 प्रतिशत तक पहुंच गई है।

यह भी पढ़ें:- रिपोर्ट: दुनियाभर में 3 में एक महिला मनोवैज्ञानिक, यौन और शारीरिक हिंसा का किया सामना, घरेलू हिंसा सिर्फ घर नहीं वैश्विक स्तर की समस्या

विपक्षी दल के केमाई कुलेस्तरो ने तुर्की की मुद्रा लीरा में गिरावट के लिए राष्ट्रपति रेचप तैयब एर्दोगन को जिम्मेदार ठहराया है। बता दें कि तुर्की राष्ट्रपति एर्दोगन वर्ष 2003 से सत्ता में हैं। वहीं, केमाई ने दावा किया कि एर्दोगन तुर्की की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए मूल समस्या बन गए हैं। इस वर्ष लीरा में 42 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। लीरा में गिरावट के बाद इस समय एक डॉलर की कीमत 13 लीरा से भी पार हो गई है। वहीं, विशेषज्ञों का कहना है कि यह किसी डरावनी फिल्म की तरह है। यह कहना मुश्किल है कि यह गिरावट कहां जाकर थमेगी।

बीते सोमवार को एर्दोगन ने केंद्रीय बैंक से ब्याज दर में कटौती के लिए कहा था जबकि अर्थशास्त्रियों का कहना था कि इससे महंगाई और बढ़ेगी। तुर्की में महंगाई दर 20 प्रतिशत पर गई है। इसका मतलब यह हुआ को तुर्की को अब जरूरी सामान खरीदने में ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
3,041FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

error: Content is protected !!