अपनी आवाज उठाने के लिए तुर्की देगा रोहिं’ग्याओं को पत्रकारिता की शिक्षा

रोहिं’ग्या मुस्लिमों की आवाज को दुनिया तक पहुंचाने के लिए तुर्की ने रो’हिंग्याओं को पत्रकारिता की शिक्षा देने के लिए एक ऑनलाइन कार्यक्रम शुरू किया है। तुर्की की एक सरकारी एजेंसी के प्रमुख अब्दुल्ला एरेन ने कहा, “हमारे भाइयों और बहनों की आवाज़ दुनिया में बेहतर सुनी जाएगी।”

उन्होंने बताया, रोहिं’ग्याओं को 29 मार्च से शुरू होने वाले ऑनलाइन मीडिया शिक्षा कार्यक्रम में शामिल होने का अवसर मिलेगा। एरेन ने कहा कि रो’हिंग्या समुदाय म्यांमार में उनके सबसे बुनियादी मान’वाधिकारों से वंचित था और उनके नतीजों को मीडिया में अधिक कवरेज मिलनी चाहिए, साथ ही अंतरराष्ट्रीय संस्थानों से भी अधिक प्रतिक्रिया मिलनी चाहिए।

उन्होंने कहा, “म्यां’मार के बाहर एक बड़ा रो’हिंग्या प्र’वासी है और हमारे कार्यक्रम का उद्देश्य उन्हें अपनी आवाज उठाने और अपने गैर-सरकारी संगठनों के लिए क्षमता बनाने के लिए एक मंच देना है।”

उन्होंने कहा, तुर्की ने पिछले दो वर्षों में इसी तरह के कार्यक्रम शुरू किए थे, जिसमें एक नेतृत्व अकादमी भी शामिल थी जिसने रोहिं’ग्या युवाओं का स्वागत किया था। कार्यक्रम मल्टीमीडिया और ऑनलाइन पत्रकारिता, “न्यू मीडिया” और सोशल मीडिया के उपयोग और प्रवासी समाचारों पर रिपोर्ट करने के लिए प्रशिक्षण देगा।

मीडिया पेशेवरों द्वारा अंग्रेजी भाषा के पाठ भी वितरित किए जाएंगे। एए और वाईटीबी ने पहले एशियाई-प्रशांत देशों के समुदायों के लिए 2020 में एक और ऑनलाइन मीडिया-प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया था।