संयुक्त राष्ट्र तक पहुंचा नबी ﷺ की शान में की गयी गुस्ताखी का मामला, UN ने दी भारत को ये नसीहत

0
608

भारत में पैगंबर मोहम्मद साहब (PBUH) के ऊपर भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने अपमा’नजनक टिप्पणी की थी जिसके बाद पूरे देश के मुस्लिम समुदाय ने आक्रो’श व्यक्त किया है इसके बाद कई मुस्लिम्स ने नूपुर शर्मा के खिलाफ एफआ’ईआर दर्ज की थी इसको लेकर अभी देश में ही आये दिन लोग विरोध कर रहे थे लेकिन अरब देशों में इस मामले पर अपना एक्शन लिया है।

विज्ञापन

सऊदी अरब ने जहा इस मामले की निंदा की वही अरब देशो ने भारत के बने हुए उत्पादों को पूरी तरह से सुपरमार्केट से हटा दिया है और इसके साथ ही वहां पर मेड इन इंडिया के बने सामान को बैन करने की बात की जा रही है यह सिलसिला कुवैत में शुरू भी हो चुका है

इसके साथ ही अरब जगत के सारे देशों ने इस मामले की जमकर निंदा करते हुए बीजेपी से माफी मांगने की बात कही है वही दूसरी ओर ये मामला अब United Nations organisation तक पहुंच गया।

इसके साथ ही अब United Nations organisation ने भी भारत को इस मामले में नसीहत देते हुए सहिष्णुता का पाठ पढ़ाया है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के प्रवक्ता ने कहा है कि हम सभी धर्मो का सम्मान करते है और सबको ऐसा ही करना चाहिए और सहिष्णुता को प्रोत्साहित भी करते है।

दरअसल पाकिस्तान की जर्नलिस्ट ने जब सस्पेंड हो चुकी भाजपा नेता नूपुर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल की ओर से पैगंबर मोहम्मद ﷺ पर की गई टिप्पणियों के लिए संयुक्त राष्ट्र के महासचिव से इस बारे में बात की .

तो इसके जवाब में United Nations organisation महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने सोमवार को प्रेस के दौरान कहा, “मैंने खबरें देखी हैं। मैंने खुद टिप्पणी नहीं देखी है, लेकिन मेरा मतलब है और मैं आपको बता सकता हूं कि हम सभी धर्मों के लिए सम्मान और सहिष्णुता को दृढ़ता से प्रोत्साहित करते हैं।”

इसके साथ ही आपको बताते चले की इस मामले की नज़ाकत को समझते हुए बीजेपी ने दोनों नेताओ के ऊपर एक्शन लिया है जहा नूपुर शर्मा को सस्पेंड किया गया है वही जिंदल को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। लेकिन तब भी भारत में मुस्लिम समुदाय के लोग नूपुर की गिर’फ्तारी की मांग कर रहे है।

इंडोनेशिया, सऊदी अरब, यूएई , बहरीन और अफगानिस्तान ने भी सोमवार को पैगंबर मोहम्मद (PBUH) के खिलाफ विवादित टिप्पणियों की निंदा की और सभी धार्मिक आस्थाओं का सम्मान किए जाने की बात कही है ।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here