No menu items!
27.1 C
New Delhi
Tuesday, October 19, 2021

दीजिए मुबारकबाद: तंजानिया के अब्दुलराजाक गुरनाह ने साहित्य में जीता 2021 का नोबेल पुरस्कार

तंजानिया के उपन्यासकार अब्दुलराजाक गुरनाह ने उपनि’वेशवाद के प्रभावों और संस्कृतियों और महाद्वीपों के बीच की खाई में शरणा’र्थियों के भाग्य के बारे में अपनी अडिग और करुणामय पैठ के लिए साहित्य में 2021 का नोबेल पुरस्कार जीता।

यूके स्थित लेखक ने 10 उपन्यास लिखे हैं, जिनमें से कई शर’णार्थी अनुभव पर केंद्रित हैं। उनके 1994 के उपन्यास “पैराडाइज”, जिसने 20 वीं शताब्दी की शुरुआत में तंजानिया में बड़े होने की कहानी बताई, ने बुकर पुरस्कार जीता।

साहित्य की नोबेल समिति ने एक बयान में कहा, “गुरनाह का सच्चाई के प्रति समर्पण और सरलीकरण के प्रति उनका विरोध आश्चर्यजनक है।” “यह उसे उदास और अडिग बना सकता है, साथ ही साथ वह बड़ी करुणा और अडिग प्रतिबद्धता के साथ व्यक्तियों के भाग्य का अनुसरण करता है।”

1948 में ज़ांज़ीबार में जन्मे गुरना 1968 में हिंद महासागर द्वीप पर विद्रो’ह के बाद एक किशोर शरणार्थी के रूप में ब्रिटेन चले गए। हाल ही में वे केंट विश्वविद्यालय में उत्तर-औपनिवेशिक साहित्य के प्रोफेसर के रूप में सेवानिवृत्त हुए।

साहित्य के लिए नोबेल समिति के अध्यक्ष एंडर्स ओल्सन ने उन्हें “दुनिया के सबसे प्रमुख उत्तर-औपनिवे’शिक लेखकों में से एक” कहा। उन्होंने कहा कि गुरनाह के पात्र “खुद को संस्कृतियों के बीच की खाई में पाते हैं … पीछे छोड़े गए जीवन और आने वाले जीवन के बीच, न’स्लवाद और पू’र्वाग्रह का सामना करते हुए, लेकिन वास्तविकता के साथ संघ’र्ष से बचने के लिए खुद को सच्चाई को चुप कराने या जीवनी को फिर से बनाने के लिए मजबूर करते हैं।”

गुरना, जिनकी मूल भाषा स्वाहिली है, लेकिन जो अंग्रेजी में लिखते हैं, साहित्य के नोबेल से सम्मानित होने वाले केवल छठे अफ्रीका में जन्मे-लेखक हैं। प्रतिष्ठित पुरस्कार एक स्वर्ण पदक और 10 मिलियन स्वीडिश क्रोनर ($ 1.14 मिलियन से अधिक) के साथ दिया जाता है। पुरस्कार राशि पुरस्कार के निर्माता, स्वीडिश आविष्कारक अल्फ्रेड नोबेल द्वारा छोड़ी गई वसीयत से आती है।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,986FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts