No menu items!
27.1 C
New Delhi
Tuesday, October 19, 2021

महिलाओं को उच्च शिक्षा देने पर तालिबान हुआ सहमत, बोला – अल्लाह का शुक्र है कि …

अफगानिस्तान में महिलाएं स्नातकोत्तर स्तर सहित विश्वविद्यालयों में पढ़ना जारी रख सकती हैं, लेकिन कक्षाएं पुरुषों से अलग होंगी और सिर ढंकना अनिवार्य होगा। उच्च शिक्षा मंत्री अब्दुल बकी हक्कानी ने रविवार को एक संवाददाता सम्मेलन में नई नीतियों को रखा, जिसके एक दिन बाद तालिबान ने राष्ट्रपति भवन पर अपना झंडा फहराया।

हालांकि इससे पहले तालिबान के उदय ने यह आशंका पैदा कर दी है कि समूह उस कठोर शासन की ओर मुड़ जाएगा, जिसने 20 साल पहले अफगानिस्तान में सत्ता में अपने पहले कार्यकाल को परिभाषित किया था। इसमें लड़कियों और महिलाओं के लिए शिक्षा से वंचित करना, साथ ही सार्वजनिक जीवन से उनका बहिष्कार शामिल था।

हक्कानी ने कहा, “हम आज जो मौजूद हैं, उस पर निर्माण शुरू करेंगे,” तालिबान की स्थिति को बनाए रखते हुए, विशेष रूप से महिलाओं के प्रति उसका दृष्टिकोण, पिछले 20 वर्षों में बदल गया है।

सबसे हालिया बयान तब आया है जब समूह ने देश भर में अपने तेज ह’मले के बाद अंतरराष्ट्रीय वैधता की मांग की। तालिबान के रुख के बावजूद, महिलाओं को खेलों से प्रति’बंधित कर दिया गया है और तालिबान ने हाल के दिनों में समान अधिकारों की मांग करने वाली महिला प्रदर्शन’कारियों के खिलाफ हिं’सा का इस्तेमाल किया है।

हक्कानी ने रविवार को कहा कि विश्वविद्यालय की छात्राओं को उन प्रतिबं’धों का सामना करना पड़ेगा जिनमें एक अनिवार्य ड्रेस कोड शामिल है। उन्होंने कहा कि हिजाब अनिवार्य होगा लेकिन यह निर्दिष्ट नहीं किया कि क्या इसका मतलब अनिवार्य हेडस्कार्फ़ या अनिवार्य फेस कवरिंग है।

उन्होंने कहा, ‘हम लड़के और लड़कियों को एक साथ पढ़ने की इजाजत नहीं देंगे। “हम सह-शिक्षा की अनुमति नहीं देंगे।” उन्होंने कहा कि जहां भी संभव होगा छात्राओं को महिलाओं द्वारा पढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा, “अल्लाह का शुक्र है कि हमारे पास बड़ी संख्या में महिला शिक्षक हैं। इसमें हमें किसी तरह की दिक्कत नहीं आएगी। महिला छात्रों के लिए महिला शिक्षक खोजने और उपलब्ध कराने के लिए सभी प्रयास किए जाएंगे।”

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,986FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts