स्विस कोर्ट का आदेश – गद्दाफी के तेल मंत्री का बेटे को करें 1.5 मिलियन डॉलर का भुगतान

एक स्विस अदालत ने लीबिया के पूर्व नेता मुअम्मर गद्दाफी के तेल मंत्री के बेटे को भ्रष्टाचार के एक मामले में आज 1.5 मिलियन डॉलर का भुगतान करने का आदेश दिया। हालांकि इस निर्णय पर उनके वकील ने कहा कि वह अपील कर सकते हैं।

बहरीन स्थित इस्लामिक निवेश बैंक के सीईओ और 2012 में रहस्यमय परिस्थितियों में डूबने वाले शोकरी घनम के बेटे मोहम्मद घनम से जुड़ा मामला गद्दाफी-युग के अभिजात वर्ग के खिलाफ लाया गया एक दुर्लभ अंतरराष्ट्रीय मामला है।

फेडरल क्रिमि’नल कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि उसने कथित घटना का और विवरण दिए बिना घनम को “विदेशी सरकारी अधिकारियों की निष्क्रिय रिश्व’त का दो’षी” पाया। मामले में वादी, लीबिया के राष्ट्रीय तेल निगम ने मुआवजे में $1.5 मिलियन की मांग की थी, लेकिन अदालत ने इसे खारिज कर दिया और इसके बजाय घनम को स्विस सरकार को उस राशि का भुगतान करने का आदेश दिया।

घनम के वकील जीन-मार्क कार्निस ने रायटर को बताया, “मेरे लिए यह गलत निष्कर्षों पर आधारित एक निर्णय है। और मैं इस फैसले को अन्यायपूर्ण मानता हूं क्योंकि भ्र’ष्टाचार की कोई घटना नहीं है।” उन्होंने कहा कि वह अपने मुवक्किल के साथ फैसले पर चर्चा करेंगे और एक अपील पर विचार करेंगे।

44 वर्षीय घनम वर्तमान में बहरीन में रहते हैं जहां वह फर्स्ट एनर्जी बैंक के प्रमुख हैं। अटॉर्नी जनरल के कार्यालय की एक प्रवक्ता ने कहा कि वह इस फैसले से “संतुष्ट” हैं, यह कहते हुए कि इस तरह की सजा दुर्लभ है।

बता दें कि नॉर्वे के अभियोजकों ने 2012 में नॉर्वे स्थित उर्वरक निर्माता यारा के पूर्व अधिकारियों पर भारत और लीबिया के अधिकारियों को रिश्वत देने का आरोप लगाया, जिसमें शोकरी घनम का परिवार भी शामिल था। नॉर्वे के अभियोजकों ने 2012 में नॉर्वे स्थित उर्वरक निर्माता यारा के पूर्व अधिकारियों पर भारत और लीबिया के अधिकारियों को रिश्वत देने का आरोप लगाया, जिसमें शोकरी घनम का परिवार भी शामिल था।