रात में अचानक हुआ चांद दिखाई देने का फैसला और पाकिस्तान में मन गई ईद

पाकिस्तान में गुरुवार को ‘रुएत-ए-हिलाल’ द्वारा बुधवार की देर रात चांद दिखाई देने की आश्चर्यजनक घोषणा के बाद ईद अल फितर मनाई।

अधिकांश पाकिस्तानी अगले रोजे के लिए तैयार थे। क्योंकि देश के मौसम विभाग (मेट) ने बुधवार – पाकिस्तान, बांग्लादेश और भारत में चांद दिखने की संभावना कम बताई थी। हालांकि, ‘रुएत-ए-हिलाल’ समिति के सदस्यों द्वारा एक तनावपूर्ण प्रतीक्षा और लंबे विचार-विमर्श के बाद, चांद दिखाई देने की घोषणा लगभग 11:30 बजे हुई।

पूर्व विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री, फवाद चौधरी, जो वर्तमान में सूचना विभाग संभाल रहे हैं ने ‘रुएत-ए-हिलाल’ के बजाय ‘विज्ञान पर निर्भरता’ का समर्थन कर रहे हैं, ने इस निर्णय की आलोचना की और कहा कि बुधवार को पाकिस्तान में चाँद को देखने का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं था।

उन्होंने कहा कि सभी के लिए एक बार यह तय किया जाना चाहिए कि क्या हम ईद को वैज्ञानिक सबूतों पर निर्भर करना चाहते हैं या चंद्र दर्शन समिति के ज्ञान के अनुसार।

समिति के नवनियुक्त अध्यक्ष अब्दुल खबीर आजाद ने कहा कि समिति ने ईद के लिए फैसला किया क्योंकि खैबर पख्तूनख्वा, बलूचिस्तान और सिंध के कुछ हिस्सों में चाँद देखा गया था। “हमारे पास पर्याप्त सबूत थे और हमारी क्षेत्रीय समितियों के प्रमुखों और सदस्यों ने उन लोगों का साक्षात्कार लिया जिन्होंने दावा किया था कि उन्होंने चांद देखा है।