श्रीलंका कैबिनेट ने सार्वजनिक रूप से बुर्का पर प्रति’बंध लगाने की दी मंजूरी

संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञ की टिप्पणी के बावजूद अंतरराष्ट्रीय कानूनों को दरकिनार कर श्रीलंका की कैबिनेट ने राष्ट्रीय सु’रक्षा आधारों का हवाला देते हुए मुस्लिम महिलाओं के पूरे चेहरे वाले कपड़े पहनने पर प्रति’बंध लगा दिया है।

कैबिनेट ने मंगलवार को अपनी साप्ताहिक बैठक में सार्वजनिक सुरक्षा मंत्री सरथ वेरासेकेरा के प्रस्ताव को मंजूरी दी, वेरासेकेरा ने अपने फेसबुक पेज पर ये जानकारी दी।

प्रस्ताव अब अटॉर्नी जनरल के विभाग को भेजा जाएगा और संसद द्वारा कानून बनने के लिए इसे अनुमोदित किया जाना होगा। सरकार संसद में बहुमत रखती है, इस प्रस्ताव को आसानी से पारित किया जा सकता है।

इस मामले में पिछले महीने, पाकिस्तानी राजदूत साद खट्टक ने ट्वीट किया था कि इस प्रति’बंध से मुसलमानों की भावनाएं आहत होंगी।

वहीं संयुक्त राष्ट्र के विशेष संबंध अहमद शहीद ने ट्वीट किया था कि धर्म या विश्वास की स्वतंत्रता पर प्रति’बंध अंतरराष्ट्रीय कानून और धार्मिक अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार के साथ असंगत होगा।

श्रीलंका के 22 मिलियन लोगों में से 9 प्रतिशत लोग मुस्लिम हैं, जिनमें 70 प्रतिशत से अधिक बौद्ध हैं। जातीय-अल्पसंख्यक तमिल, जो मुख्य रूप से हिंदू हैं, में लगभग 15 प्रतिशत शामिल हैं।