किंग सलमान ने हरम और मस्जिद ए नबवी में दी तरावीह पढ़ने की इजाजत

मक्का और मदीना स्थित दो पवित्र मस्जिदों के कस्टोडियन, सऊदी अरब के राजा सलमान बिन अब्दुलअजीज ने हरम शरीफ और मस्जिद ए नबवी में तरावीह अदा करने की इजाजत दे दी है। हालांकि इस दौरान नमाजियों की तादाद का रहेगी।

सऊदी समाचार एजेंसी (एसपीए) ने मंगलवार को सूचना दी कि रमजान के महीने के दौरान कई शहरों में कर्फ्यू में ढील देने की योजना है ताकि लोगों को अपने पड़ोस की सीमाओं के भीतर आवश्यक जरूरतों के लिए खरीदारी करने की अनुमति मिल सके।

बता दें कि इससे पहले दोनो पवित्र मस्जिदों के अध्यक्ष, शेख डॉ अब्दुलरहमान बिन अब्दुलअज़ीज़ अल-सुदैस के हवाले से दोनों पवित्र मस्जिदों हरम शरीफ और मस्जिद ए नबवी में रमजान के दौरान सामूहिक नमाजों पर रोक लगा देने की खबर आई थी। जिसमे तरावीह की नमाज भी शामिल है।

अल-सुदैस ने एक ट्वीट में कहा कि मक्का में ग्रैंड मस्जिद (मस्जिद अल-हरम) और पैगंबर की मस्जिद (अल मस्जिद अल-नबावी) में अजान तो होगी। लेकिन पूरे महीने इबादत के लिए मस्जिद बंद रहेंगी। हालांकि शाह सलमान के आदेश के बाद अब ये पाबंदी हटा दी गई है।

अल-अक्सा मस्जिद को किया गया बंद

पूर्वी यरुशलम में स्थित अल-अक्सा मस्जिद परिसर को कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए अपने इतिहास में पहली बार रमजान के पवित्र महीने में इबादत के लिए बंद कर दिया जाएगा। यरुशलम इस्लामिक वक्फ परिषद, जो जॉर्डन की एक संस्था है, ने इस बात पर जोर दिया कि यह निर्णय पहले घोषित इस्लामिक फतवों और चिकित्सा सिफारिशों के अनुसार किया गया।

परिषद ने 22 मार्च को घोषणा की कि कोरोनावायरस के कारण अल-अक्सा में नमाजों को निलंबित कर दिया गया है।अल-अक्सा मस्जिद मुसलमानों के लिए दुनिया की तीसरी सबसे पवित्र जगह है। यहूदी इस क्षेत्र को टेंपल माउंट कहते हैं, यह दावा करते हैं कि यह प्राचीन काल में दो यहूदी मंदिरों का स्थल था।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE