चांदी के नैनोफाइबर का उपयोग कर सऊदी ने इहराम के कपड़े का किया आविष्कार

हज 2021 के दौरान, सऊदी अरब हाजियों के फराइज़ को सुविधाजनक बनाने के लिए नए और उच्च गुणवत्ता वाली सेवाएं प्रदान करने के लिए तकनीकी क्षमताओं का उपयोग कर रहा।

इन तकनीकों में अब नैनो-इहराम कपड़े हैं। इहराम  दो चादरों वाला बिना सिले सफेद कपड़े का पहना है, जिसे हज के दौरान पुरुषों द्वारा पहना जाता ह। इस बार इस बनाने के लिए चांदी के नैनोफाइबर का इस्तेमाला किया गया है।

सऊदी आविष्कारक हमद बिन अली अल यामी द्वारा विकसित चांदी के नैनोफाइबर, जिसका उपयोग लगातार दूसरे वर्ष हज के दौरान किया जा रहा है, इसके सूती कपड़े से अलग है जो बैक्टीरिया के प्रजनन को रोकता है, और हाजियों की सुरक्षा के लिए निवारक उपायों को बढ़ाता है। पुरुषों के इहराम पहनने के लिए सख्त नियम हैं, हालांकि, एक महिला नियमित कपड़े पहन सकती है।

उन्होने कहा, इहराम के कपड़े में चांदी के गैर-फाइबर के उपयोग को इस तथ्य से प्रेरित किया गया था कि धातु का इस्तेमाल अतीत में घावों के लिए एंटीसेप्टिक के रूप में और पानी के बर्तन में रखे जाने पर शोधक के रूप में किया जाता था।

अल यामी ने कहा, “सिल्वर का इस्तेमाल दुनिया भर में सर्जि’कल उपकरणों, डॉक्टरों के कपड़ों और अस्पतालों में मेडिकल टीमों को स्टरलाइज़ करने के लिए किया जाता है और यहीं से इहराम के कपड़े बनाने में इस तकनीक का इस्तेमाल करने का विचार आया।”