सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था ने पूरी दुनिया को चौंकाया, बड़े-बड़े दिग्गज रह गए पीछे

0
862

सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था 2022 में दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बनने जा रही है. चीन, भारत जैसे एशियाई दिग्गजों और पश्चिमी यूरोप समेत उत्तरी अमेरिका की अर्थव्यवस्था को सऊदी अरब पीछे छोड़ देगा. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सऊदी अरब का सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी 2022 में 7.5 फीसद रहने वाला है. इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि 2011 के बाद से सऊदी अरब की विकास दर सबसे तेज है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि सऊदी अरब की आर्थिक वृद्धि मुख्य रूप से हाई एनर्जी कीमतों, बढ़ते तेल और गैस प्रोडक्शन, एनर्जी और नॉन-एनर्जी क्षेत्रों में बड़े स्तर पर इनवेस्टमेंट के कारण है. अर्थव्यवस्था पर COVID‑19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम के सफल रोलआउट का भी खासा असर देखने को मिला है.

विज्ञापन

This decision of Saudi Arabia surprised everyone, also shocked India

2022 में सऊदी अरब के अकाउंट बैलेंस में लगभग 163 बिलियन डॉलर का सरप्लस होने की संभावना है. जो कि 2021 में 44 बिलियन डॉलर से कहीं ज्यादा है. सऊदी सेंट्रल बैंक ने यूएस फेडरल रिजर्व की तरह मौद्रिक नीति में कोई लचीलापन नहीं दिखाया है. जिसका नतीजा है कि देश में उपभोक्ता मूल्य मुद्रास्फीति 2022 में औसतन लगभग 2.5 प्रतिशत रहने की उम्मीद है. 2023 में इसके और कम होने की उम्मीद है.

सऊदी अरब में चल रहे नियामक सुधार कारोबारी माहौल में सुधार कर रहे हैं और विदेशी निवेश को आकर्षित कर रहे हैं. ये सुधार देश के बाजार का समर्थन करने के साथ-साथ अर्थव्यवस्था में निजी क्षेत्र की भागीदारी को भी बढ़ावा दे रहे हैं. प्रो-बिजनेस सुधारों ने यहां बिजनेस शुरू करना आसान बना दिया है. इसके साथ ही यहां विदेशी कंपनियों द्वारा अर्थव्यवस्था में निवेश करना आसान हो गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here