ईंधन की कमी से जूझ रहे यमन को सऊदी अरब ने दिया 422 मिलियन डॉलर का ऑइल

ऊदी अरब ने पावर स्टेशनों के लिए यमन की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सरकार को 422 मिलियन डॉलर का पेट्रोलियम उत्पाद देने और सार्वजनिक सेवाओं का समर्थन करने की घोषणा की है।

सऊदी अरब की समाचार एजेंसी एसपीए ने मंगलवार को क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने यमन के राष्ट्रपति अब्दराबु मंसूर हादी को एक टेलीफोन कॉल में सऊदी विकास और पुनर्निर्माण कार्यक्रम के तहत अनुदान की सूचना दी।

अरब गठबंधन ने ईरान समर्थित हौथियों के खिलाफ 2015 में यमन में हस्तक्षेप किया था जिन्होंने हादी की सरकार को राजधानी साना से बाहर कर दिया था और अब उत्तरी यमन के अधिकांश हिस्से पर कब्जा कर लिया है। सरकार दक्षिण में आधारित है।

ईंधन की कमी ने पानी के पंप, अस्पतालों में जनरेटर और यमन में सहायता आपूर्ति बाधित कर दी है, जहां 80 प्रतिशत आबादी को मदद की जरूरत है।

पिछले हफ्ते हादी की सरकार ने कहा कि उसने कुछ ईंधन जहाजों के प्रवेश को योडे के रेड सी बंदरगाह होदेदाह में प्रवेश करने की मंजूरी दी थी, जिसे हौथी आंदोलन द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

यह कदम सऊदी अरब की और से यु’द्धविराम प्रस्ताव के बाद सामने आया है। यदि प्रस्ताव स्वीकार कर लिया जाता है तो गठबंधन पूरी तरह से एक हवाई और समुद्री नाकाबंदी को हटा देता है।