सऊदी अरब ने हरम और मस्जिद ए नबवी में रमजान में नमाजों पर लगाई पाबंदी

सऊदी अरब ने मक्का और मदीना स्थित दोनों पवित्र मस्जिदों हरम शरीफ और मस्जिद ए नबवी में रमजान के दौरान सामूहिक नमाजों पर रोक लगा दी है। जिसमे तरावीह की नमाज भी शामिल है।

दोनो पवित्र मस्जिदों के अध्यक्ष, शेख डॉ अब्दुलरहमान बिन अब्दुलअज़ीज़ अल-सुदैस ने एक ट्वीट में कहा कि मक्का में ग्रैंड मस्जिद (मस्जिद अल-हरम) और पैगंबर की मस्जिद (अल मस्जिद अल-नबावी) में अजान तो होगी। लेकिन पूरे महीने इबादत के लिए मस्जिद बंद रहेंगी।

प्राधिकरण ने पिछले महीने एहतियाती एंटी-कोरोनोवायरस उपायों को तेज करना शुरू कर दिया और सभी पक्षों के बीच समन्वय को बढ़ावा दिया। इसके अलावा उमराह करने पर पहले भी पाबंदी लगा दी जा चुकी है। विदेशियों के आगमन को पूरी तरह से बंद किया जा चुका है।

अल-अक्सा मस्जिद को भी किया गया बंद

पूर्वी यरुशलम में स्थित अल-अक्सा मस्जिद परिसर को कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए अपने इतिहास में पहली बार रमजान के पवित्र महीने में इबादत के लिए बंद कर दिया जाएगा। यरुशलम इस्लामिक वक्फ परिषद, जो जॉर्डन की एक संस्था है, ने इस बात पर जोर दिया कि यह निर्णय पहले घोषित इस्लामिक फतवों और चिकित्सा सिफारिशों के अनुसार किया गया।

परिषद ने 22 मार्च को घोषणा की कि कोरोनावायरस के कारण अल-अक्सा में नमाजों को निलंबित कर दिया गया है।अल-अक्सा मस्जिद मुसलमानों के लिए दुनिया की तीसरी सबसे पवित्र जगह है। यहूदी इस क्षेत्र को टेंपल माउंट कहते हैं, यह दावा करते हैं कि यह प्राचीन काल में दो यहूदी मंदिरों का स्थल था।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE