भारतीय मुसलमानों पर मेहरबान हुआ सऊदी अरब, उठाया ऐतिहासिक कदम

0
300
  • हज 2023 की तैयारियां चल रही हैं. खास बात यह है कि इस बार हज कोरोना से पहले के नियमों के मुताबिक होगा. यानी कोरोना की वजह से लगी कई पाबंदियों को अब खत्म कर दिया गया और फिर से हज पर जाने वाले लोग पूरी तरह आज़ाद होंगे. सबसे खास बात यह है कि सऊदी अरब ने इस साल हज के लिए लोगों की तादाद पर पाबंदी लगा दी है. साथ ही किसी भी उम्र का शख्स हज के लिए जा सकेगा. इससे पहले ज्यादा बुजुर्ग लोगों को हज पर जाने की इजाज़त नहीं थी.

    साल 2023 भारतीय के मुसलमानों के लिए इसलिए भी खास है, क्योंकि सऊदी अरब ने भारत को जो कोटा दिया है वो अब तक के इतिहास में सबसे ज्यादा है. जी हैं, इस साल हज के सफर के लिए भारत से 1,75025 लोग जाएंगे. कहा जा रहा है कि ये तादाद इतिहास में सबसे ज्यादा है. इससे पहले सऊदी ने हिंदुस्तानियों के लिए इतना बड़ा कोटा कभी रिजर्व नहीं किया था. भारत से हज पर जाने वालों की तादाद उत्तर प्रदेश के लोगों की ज्यादा है.

    बता दें कि कोरोना वायरस की वजह से पिछले वर्षों में हज को लेकर भी दिक्कत पैदा हुई थी. महामारी के बीच लाखों की तादाद में लोगों का सऊदी अरब पहुंचना उन लोगों के लिए भी खतरा था और सऊदी अरब के लिए भी. ऐसे में सऊदी अरब ने सिर्फ कुछ लोगों की ही हज की इजाज़त दी थी. जिसके वजह से हिंदुस्तान और अन्य देशों में मौजूद लाखों मुसलमान हज के सफर के बगैर ही रह जाते थे. लेकिन अब लगभग सभी की मुरादें पूरी हो जाएंगी.

    सऊदी अरब ने हाल में ऐलान करते हुए बताया कि हज और उमराह के लिए जाने वालों के वीजा की अवधि भी बढ़ा दी गई है. अब हज और उमराह के लिए जाने वाले लोग 30 की बजाए 90 दिन वहां रह सकेंगे और देश के किसी भी शहर का सफर कर सकते हैं. इससे पहले ये इजाज़त नहीं थी. यह जानकारी हज व उमरा मंत्री तौफीक अल-रबियाह ने हज से जुड़े एक प्रोग्राम के दौरान दी है.

    विज्ञापन
  • LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here