हज को लेकर सऊदी अरब से आई बड़ी खबर, हर मुसलमान का जानना है जरूरी

को’रोना महा’मारी के बीच सऊदी अरब लगातार दूसरे साल भी विदेशी हजयात्रियों को बैन करने पर विचार कर रहा है। यानि दूसरे साल भी सऊदी अरब के बाहर के लोगों को हज के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी।

महा’मारी से पहले लगभग 2.5 मिलियन जायरीन सप्ताह भर की हज यात्रा के लिए मक्का और मदीना में इस्लाम के सबसे पवित्र स्थलों पर जाते थे और साल भर उमरा के लिए पहुँचते थे। कुल मिलाकर सऊदी सरकार लगभग 12 बिलियन डॉलर अर्जित करतीं थी।

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान द्वारा शुरू की गई आर्थिक सुधार योजनाओं के हिस्से के रूप में सऊदी उमरा और हज यात्रियों की संख्या को क्रमशः 15 मिलियन और 5 मिलियन तक बढ़ाने की उम्मीद कर रहा है, और 2030 तक यह संख्या 30 मिलियन तक दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया। इसका उद्देश्य 2030 तक अकेले हज से 50 बिलियन रियाल (13.32 बिलियन डॉलर) राजस्व अर्जित करना है।

इस मामले से परिचित दो सूत्रों ने कहा कि अधिकारियों ने हज यात्रियों को विदेशों से होस्ट करने की पूर्व की योजनाओं को निलंबित कर दिया है, और केवल से कम से कम छह महीने पहले COV’ID-19 से छूटे हुए घरेलू  जायरीनो को अनुमति देगा।

वैश्विक रूप से 35 देशों में CO’VID-19 संक्रमण अभी भी बढ़ रहा है। भारत में दुनिया में प्रतिदिन औसतन होने वाली नई मौ’तों की संख्या बढ़ रही है। फरवरी में, सरकार ने नए कोरो’नावा’यरस के प्रसार को रोकने में मदद करने के लिए राजनयिकों, सऊदी नागरिकों, चिकित्सा चिकित्सकों और उनके परिवारों के अपवाद के साथ 20 देशों से राज्य में प्रवेश को निलंबित कर दिया।