रूस ने बनाई दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन, पुतिन की बेटी को भी दिया गया टीका

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को ऐलान किया कि उनके देश ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन बना ली है। जो कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ कारगर है।

उन्होने बताया, आज सुबह कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ पहली वैक्सीन का पंजीकरण हो गया है। पुतिन ने कहा कि इस टीके का इंसानों पर दो महीने तक परीक्षण किया गया और ये सभी सुरक्षा मानकों पर खरा उतरा है। उन्होने ये भी कहा कि उनकी बेटी ने भी इस वैक्सीन को लिया है।

व्लादीमिर पुतिन ने कहा, मेरी बेटी को हल्का बुखार था, लेकिन इस वैक्सीन का टीका लगाए जाने के बाद अब वो पूरी तरह ठीक है। वो पूरी तरह स्वस्थ महसूस कर रही हैं। उसने इस परीक्षण में हिस्सा लिया था। समाचार एजेंसी AFP की जानकारी के मुताबिक, इस वैक्सीन को मॉस्को के गामेल्या इंस्टीट्यूट ने डेवलेप किया है।

रूस में जल्द ही इस सफल वैक्सीन के प्रोडक्शन का कार्य शुरू किया जाएगा और वैक्सीन की डोज़ बड़ी संख्या में तैयार की जाएगी। अब रूस द्वारा तैयार की गई वैक्सीन को WHO की तरफ से मंजूरी मिलती है, तो जल्द ही यह वैक्सीन दुनियाभर में भेजी जाएगी।

WHO द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, इस समय लगभग 100 से अधिक देश वैक्सीन बनाने पर काम कर रहे है। जिसमें अमेरिका, ब्रिटेन, इजरायल, चीन, रूस, भारत जैसे देश शामिल हैं। लेकिन रूस ने बजी मर ली है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE