रूस के साथ मिलकर सऊदी अरब ने अंतरिक्ष मिशन किया शुरू, अमेरिका को पीछे छोड़ने की तैयारी

रूस सऊदी अरब के अंतरिक्ष यात्रियों को प्रशिक्षण दे रहा है। दरअसल दोनों देश एक संयुक्त मानव अंतरिक्ष मिशन की तैयारी कर रहे हैं। रूसी उप प्रधान मंत्री अलेक्जेंडर नोवाक ने मंगलवार को ये जानकारी दी। बता दें कि रूस और सऊदी अरब दोनों प्रमुख तेल निर्यातक हैं।

विशेष रूप से अंतरिक्ष यात्रियों के प्रशिक्षण और एक संयुक्त मानव अंतरिक्ष मिशन के विकास पर एक ऑनलाइन के बाद रूस और सऊदी अरब के अंतर सरकारी आयोग ने कहा कि यात्रियों के प्रशिक्षण और एक संयुक्त मानव अंतरिक्ष मिशन के विकास पर काम आशाजनक था।

रोस्कोस्मोस अंतरिक्ष एजेंसी ने अप्रैल में कहा था कि रूस 2030 तक इसे कक्षा में लॉन्च करने के उद्देश्य से अपना खुद का अंतरिक्ष स्टेशन बनाना शुरू करने के लिए तैयार है, अगर राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आगे बढ़ते हैं। यह परियोजना रूसी अंतरिक्ष अन्वेषण के लिए एक नया अध्याय खोलेगी और अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ दो दशकों से अधिक के घनिष्ठ सहयोग का अंत करेगी।

उल्लेखनीय है कि खाड़ी देशों में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने पहले ही अपना अंतरिक्ष कार्यक्रम शुरू कर दिया है। हाल ही में यूएई ने दो अंतरिक्ष यात्रियों के नाम की घोषणा की है। इनमें एक महिला नौरा अल मतरोशी भी शामिल हैं जो देश की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री होंगी। दूसरे अंतरिक्ष यात्री का नाम मोहम्मद अल मुल्ला है।

इससे पहले वर्ष 2019 में हज्जा अल मंसूरी अंतरिक्ष में जाने वाले यूएई के पहले शख्स बने थे। वह आठ दिन के मिशन के दौरान अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर रहे थे। यूएई की अंतरिक्ष संबंधी कई महत्वाकांक्षी योजनाएं हैं। वह 2024 तक चांद पर मानवरहित विमान भेजना चाहता है।