कोरोना वायरस ने ईरान में 70 हजार कैदियों को दिलाई रिहाई

ईरान में सोमवार को कोरोना वायरस के सैकड़ों नए इन्फैक्शन के मामले सामने आने के बाद 70 हजार कैदियों को अस्थाई तौर पर रिहा रिहा कर दिया है।

ईरान की न्यायिक व्यवस्था से जुड़ी एक वेबसाइट ने ईरानी न्यायिक चीफ इब्राहिम रईसी के हवाले से सोमवार को इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि करीब 70 हजार कैदियों को रिहा कर दिया गया। इब्राहिम रईसी ने कहा कि कैदियों की रिहाई के दौरान इस बात का ध्यान रखा गया कि इससे समाज में असुरक्षा पैदा नहीं होगी।

हालांकि न्यायिक प्रमुख इब्राहिम रईसी ने यह साफ नहीं किया कि रिहा हुए कैदियों को कब तक वापस जेल आना होगा। लोगों का यह भी कहना है कि इतनी बड़ी संख्या में कैदियों को छोड़ने से असुरक्षा का माहौल बन सकता है। बता दें कि खाड़ी के देशों में सबसे ज्यादा ईरान कोरोना वायरस से प्रभावित है।

ईरान के अधिकारियों को नवरुज के दौरान इस इन्फैक्शन को फैलने का डर सता रहा है। 20 मार्च से ईरान में नए साल की शुरुआत होती है और इस दौरान लोग छुट्टी में देशभर में नई जगहों पर घूमने जाते हैं। स्वास्थ्य विभाग के तरफ से ईरान के लोगों से कहा गया है कि वे अपने घरों में ही रहें और प्रांतों के बीच यात्रा पर पाबंदी लगा दी है।

कोरोना वायरस के कारण सोमवार को ईरान में और 49 लोगों की मौ*त हो गई। अब तक कोविड-19 से ईरान में मरने वालों की संख्या 194 तक पहुंच गई है। वहीं सऊदी अरब ने 14 देशों के आवागमन पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है और चेतावनी दी है कि अगर कोई ईरान जाएगा तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी ।

दूसरी ओर इटली रविवार को कोरोना वायरस से मौत के मामले में दुनिया में दूसरे स्थान पर पहुंच गया। इटली की नागरिक सुरक्षा एजेंसी प्रमुख एंजेलो बोरेली ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए 220 लाख सर्जिकल मास्क का ऑर्डर दिया जा रहा है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE