कतर नहीं करेगा सीरिया के साथ सबंधों को सामान्य, UAE तो नहीं वजह

सीरिया में एक बार फिर से बशर अल असद ने राष्ट्रपति का पद संभाल लिया है। हाल ही में हुए राष्ट्रपति पद के चुनावों में उन्होने 91 फीसदी से ऊपर मत हासिल किए है। लेकिन पश्चिम को चुनाव की सत्यता पर यकीन नहीं है। इसी बीच कतर ने घोषणा की कि वह सीरिया के साथ सबंधों को सामान्य नहीं करने वाला।

कतर सऊदी अरब सहित कई क्षेत्रीय राज्यों में से एक था जिसने सीरिया के दशक पुराने गृहयु’द्ध में विद्रो’हियों का समर्थन किया था। संयुक्त अरब अमीरात जैसे कुछ लोगों ने असद के देश के अधिकांश हिस्सों पर नियंत्रण पाने के बाद संबंधों को सामान्य बनाने की मांग की है।

कतर के विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल-थानी ने शुक्रवार को यूके स्थित अल अरबी टेलीविजन द्वारा प्रसारित एक साक्षात्कार में बताया, “अभी तक हमें सीरियाई लोगों के लिए स्वीकार्य राजनीतिक समाधान के लिए क्षितिज पर कुछ भी नहीं दिख रहा है … (शासन का) दृष्टिकोण और आचरण नहीं बदला है।”

शेख मोहम्मद ने कहा, “इस समय हमारे लिए असद शासन के साथ संबंधों को फिर से स्थापित करने की कोई प्रेरणा नहीं है।” “असद शासन अपने लोगों के खिलाफ अप’राध कर रहा है।”

असद शासन ने कहा कि बुधवार के चुनाव से पता चलता है कि यु’द्ध के बावजूद देश सामान्य रूप से काम कर रहा है जिसमें सैकड़ों हजारों लोग मा’रे गए और 11 मिलियन विस्थापित हुए।