पुतिन ने ईरान को जासूसी उपग्रह देने से किया इंकार, बताई ये बड़ी वजह

हाल ही में एक अमेरिकी अखबार के हवाले से खबर आई थी की रूस जल्द ही ईरान को एक उन्नत उपग्रह प्रदान करने की तैयारी कर रहा है जो उसे मध्य पूर्व में संभावित सै’न्य लक्ष्यों को ट्रैक करने में सक्षम करेगा। हालांकि अब रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने ऐसी किसी भी योजना से इंकार किया है।

जिनेवा में बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की मुलाकात के दौरान पुतिन ने रिपोर्ट को “कचरा” कहकर खारिज कर दिया। शिखर सम्मेलन से पहले एक साक्षात्कार में उन्होंने एनबीसी न्यूज को बताया, “सै’न्य और तकनीकी सहयोग सहित ईरान के साथ हमारी सहयोग योजनाएं हैं।”

उन्होने कहा, “यह सिर्फ फर्जी खबर है। कम से कम मैं तो इस तरह की चीज के बारे में कुछ नहीं जानता, जो लोग इसके बारे में बात कर रहे हैं वे शायद इसके बारे में ज्यादा जानते होंगे। यह सिर्फ बकवास है, कचरा है।”

बता दें कि रायटर ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि रूस की और से ईरान को एक उच्च-रिज़ॉल्यूशन कैमरे से लैस एक रूसी-निर्मित कनोपस-वी उपग्रह दिया जाएगा, जिसे रूस हाल के महीनों के भीतर लॉन्च कर सकता है।

अखबार ने कहा कि उपग्रह “फारस की खाड़ी की तेल रिफाइनरियों और इ’जरा’यल के सै’न्य ठिकानों से लेकर इराकी बैरकों तक अमेरिकी सैनि’कों के बेस की निरंतर निगरानी” की अनुमति देगा। जबकि कनोपस-वी नागरिक उपयोग के लिए दिया जाएगा।