No menu items!
23.1 C
New Delhi
Sunday, December 5, 2021

अल्पसंख्यकों के साथ एकजुटता, मंदिर में दिवाली मनाएंगे पाकिस्तान के चीफ जस्टिस

पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यकों को एकजुटता का संदेश देने और कट्ट’रपंथि’यों को सीखे देने के लिए पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस गुलजार अहमद आज दिवाली मनाने हिंदुओं के मंदिर में जाएंगे। पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस से दिवाली मनाने के लिए उस मंदिर को चुना है, जिसे पाकिस्तान के कुछ कट्टरपंथियों ने पिछले साल पूरी तरह से तोड़ दिया था।

अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के साथ एकजुटता दिखाने के लिए, पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश गुलजार अहमद सोमवार को खैबर पख्तूनख्वा के कराक इलाके में ‘टेरी मंदिर’ में दिवाली मनाएंगे, जिसे कट्ट’रपंथि’यों की भीड़ ने पिछले साल ध्वस्त कर दिया था। पाकिस्तान हिंदू काउंसिल की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, चीफ जस्टिस ऑफ पाकिस्तान गुलजार अहमद सोमवार को दोपहर 3 बजे दिवाली समारोह में हिस्सा लेंगे। आपको बता दें कि, ये मंदिर संत श्री परम हंस जी का है और मंदिर की स्थापना आजादी से पहले 1920 में की गई थी।

आपकी बता दें कि, पिछले साल दिसंबर में जमीयत उलेमा इस्लाम-फजल से जुड़े एक स्थानीय मौलवी के नेतृत्व में भीड़ ने मंदिर में तोड़फोड़ की थी। यह घ’टना जमीयत उलेमा इस्लाम-फजल की एक रैली के कुछ घंटों बाद हुई थी, जो मंदिर के पास में ही आयोजित की गई थी, जिसमें वक्ताओं ने कथित तौर पर उग्र भाषण दिए थे। उसके उकसावे के बाद भीड़ ने मंदिर में हमला कर दिया था और मंदिर में आग लगा दी थी। कट्ट’रपंथि’यों की भीड़ ने मंदिर को पूरी तरह से तोड़ दिया था और उसमें आग लगा दी थी। जिसके बाद पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने इमरान सरकार को जमकर फटकार लगाते हुए देश में अल्पसंख्यकों की स्थिति पर चिंता जताई थी और सरकारी खर्चे पर मंदिर का निर्माण करने और आरोपियों से मंदिर निर्माण में आने वाला 3 करोड़ 30 लाख (पाकिस्तानी रुपये) वसूलने के आदेश दिए थे।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
3,041FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts

error: Content is protected !!