कोरोनावायरस: पाकिस्तान ने रमजान में मस्जिदों में नमाज अदा करने की दी छुट

कोरोना संकट के बीच पाकिस्तान की इमरान सरकार ने शनिवार को रमजान के पवित्र महीने में मस्जिदों में सामूहिक नमाज पढ़ने की इजाजत दे दी। बता दें कि पाकिस्तान में अब तक 149 लोग इस वायरस के कारण जान गंवा चुके हैं जबकि 7779 लोग ज़्यादा लोग संक्रमित हुए हैं।

राष्ट्रपति डॉ. आरिफ अल्वी ने धार्मिक नेताओं और सभी प्रांतों के राजनीतिक प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक के बाद यह घोषणा की। अल्वी ने कहा कि 20 सूत्री योजना पर सहमति बनी है। यह एक महत्वपूर्ण समझौता है और सभी धर्मगुरु इस पर सहमत हैं।

उन्होंने कहा कि मौलवी मस्जिदों में नमाज अदा करते समय सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर सरकारी दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए सहमत हुए हैं। पाकिस्तान उलेमा काउंसिल (पीयूसी) ने कहा है कि वह रमजान में सामूहिक नमाज के लिए सरकार के 20 सूत्री एजेंडे का पालन करेगी। पीयूसी के चेयरमैन हाफिज ताहिर अशरफी ने नमाजियों से सरकारी दिशानिर्देशों का पालन करने को कहा है।

समझौते के अनुसार, 50 वर्ष से ऊपर केलोग, नाबालिग और फ्लू से पीडि़त लोगों को मस्जिदों में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। विशेष नमाज मस्जिदों के अलावा सड़क या फुटपाथ पर आयोजित नहीं की जाएगी। मस्जिदों में पड़ी कालीनों को हटाने के साथ ही फर्श को नियमित रूप से कीटाणुनाशक से धोने को कहा गया है। नमाज अदा करते समय छह फीट की दूरी, चेहरे पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा। हाथ मिलाने या दूसरों से गले लगने से भी बचना होगा।

पाक राष्ट्रपति अल्वी ने कहा कि अगर सरकार को किसी भी बिंदु पर महसूस हुआ कि दिशानिर्देशों का उल्लंघन हो रहा है या बीमारी फैल रही है तो वह अपने फैसले पर फिर से विचार कर सकती है। पाकिस्तान सरकार ने मस्जिदों में सामूहिक प्रार्थना पर प्रतिबंध लगा रखा है, लेकिन इस निर्णय का केवल आंशिक रूप से पालन किया जा रहा है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE