No menu items!
29 C
New Delhi
Tuesday, October 19, 2021

उस्मानी सल्तनत की तरह अफगानिस्तान के लिए OIC बनाए मुस्लिम देशों की शांति से’ना

अफगानिस्तान से अमेरिकी सै’निकों की वापसी के बीच बुधवार को अनादोलु एजेंसी के प्रधान संपादक ने इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) से मुस्लिम देशों की एक शांति से’ना का गठन किया जाना चाहिए।

अफगानिस्तान में संघर्ष की गतिशीलता और तुर्की की भूमिका को लेकर Mehmet Öztürk ने कहा कि तुर्की इस क्षेत्र को अच्छी तरह से जानता है, शांति मिशन में अग्रणी भूमिका निभा सकता है। उन्होंने तर्क दिया कि इस तरह की ताकत स्थापित करने में विफलता अफगानिस्तान में एक अराजक गृहयु’द्ध का कारण बन सकती है जहां “सभी सभी ल’ड़ रहे होंगे”।

इस क्षेत्र के साथ तुर्की के संबंधों को मजबूत और ऐतिहासिक बताते हुए उन्होंने कहा कि आधुनिक अफगान से’ना की स्थापना ओटोमन साम्राज्य ने की थी।

उन्होंने कहा कि 2002 में अफगानिस्तान में ना’टो के हस्तक्षेप के दौरान तुर्की ने ल’ड़ाकू बल नहीं भेजे थे, उन्होंने कहा कि इसने केवल देश के पुनर्निर्माण में भाग लिया। “इस अवधि के दौरान, तालि’बान ने तुर्की सैनि’कों पर हम’ला नहीं किया।”

उन्होंने कहा कि तालि’बान के तुर्की में शांति वार्ता में शामिल होने से इनकार करने से अफगानिस्तान को भी काफी नुकसान हुआ है। इस्तांबुल में बहुप्रतीक्षित अफगान शांति सम्मेलन अप्रैल के अंत में निर्धारित किया गया था, लेकिन इसे स्थगित कर दिया गया था। उन्होने कहा, “कुछ समूह और राज्य नहीं चाहते थे कि तालि’बान इस्तांबुल आए।”

Mehmet Öztürk ने कहा , तुर्की को ना’टो के हिस्से के रूप में अफगानिस्तान में नहीं रहना चाहिए, यह कहते हुए कि यह तुर्की के लिए असुविधाजनक हो सकता है। तालि’बान को विश्वास में लेने के साथ तुर्की को अफगानिस्तान में रहना चाहिए, उन्होंने कहा, तालि’बान भी तुर्की के साथ संघ’र्ष नहीं चाहता है।

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,986FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts