No menu items!
26.1 C
New Delhi
Monday, September 27, 2021

मदीना में सिनेमाघरों खुलने की खबर से पूरे भारत और पाकिस्तान में फैला आ’क्रोश

- Advertisement -

सऊदी अरब के मदीना में 10 सिनेमा हॉल बनने की खबर एक पाकिस्तानी स्कॉलर के ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर फैल गई, भारत और पाकिस्तान में मुस्लिम हलकों में आ’क्रोश और गु’स्सा तेजी से फैल गया। स्कॉलर ने 2020 से मदीना के नागरिक निकाय के एक पुराने ट्वीट को री-ट्वीट किया।

मक्का के साथ-साथ मदीना मुसलमानों के लिए सबसे पवित्र शहर है। ऐसा माना जाता है कि पैगंबर मुहम्मद (सल्ल.) मक्का में 13 साल के उत्पी’ड़न के बाद मदीना चले गए, और बाद में शहर की स्थापना की। पैगंबर मुहम्मद (सल्ल.) का अंतिम विश्राम स्थल भी मस्जिद ए नबवी मदीना में ही स्थित है।

मुफ्ती ताकी उस्मानी – पाकिस्तान के प्रमुख मुफ्ती, जिनके भारत में भी बड़ी संख्या में अनुयायी है, ने 3 सितंबर को मदीना की नगर पालिका अमाना अल मदीना के एक पुराने ट्वीट को नवंबर 2020 के अंत से री-ट्वीट किया। ट्वीट में कहा गया है कि अगले 14 महीनों में (नवंबर 2020 से) मदीना में किंग्स रोड पर 28 दुकानें, 10 सिनेमा हॉल, 32 रेस्तरां, मनोरंजन के लिए 2 स्थान, 19 खुले क्षेत्र सहित अन्य चीजें खोली जाएंगी।

मुफ्ती तकी उस्मानी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘अब मदीना में 10 सिनेमा हॉल बनाने की साजिश रची जा रही है! समाचार से हुए आघात का वर्णन करने के शब्द नहीं हैं। ” पाकिस्तानी स्कॉलर ने कुरान की एक आयत को उद्धृत किया, जिसमें लिखा था, “क्या तुम्हारे बीच कोई तर्कसंगत व्यक्ति नहीं है?”

इस बारे में मुंबई के मुफ्ती यूसुफ असद ने टिप्पणी की, “हम क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान द्वारा इस्लामी शरिया की सीमा के तहत आधुनिकीकरण के सभी सुधारों का स्वागत करते हैं, लेकिन मदीना शहर वह जगह है जहां हम रेखा खींचते हैं ।”

उन्होंने आगे कहा कि मदीना सऊद परिवार की निजी संपत्ति नहीं है, यह पहले अल्लाह और उसके दूत की है, और फिर पूरे मुस्लिम उम्मा (एक समान उद्देश्य के लिए एक साथ आने वाले लोगों का एक समूह) का है। उन्होंने कहा, “कोई भी मुसलमान मदीना शहर में महिलाओं के साथ किसी भी तरह की अनैतिकता या आपत्तिजनक व्यवहार को बर्दाश्त नहीं करेगा।”

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article