सूडान और इजरायल संबंध सामान्य करने पर सहमत, फिलिस्तीन ने की निंदा

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और सूडान के संप्रभु परिषद के प्रमुख अब्देल फतेह अल-बुरहान संबंध सामान्य करने के लिए शुरुआती कदम उठाने पर सहमत हो गए हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, इजरायल और सूडान के बीच बैठक नेतन्याहू की युगांडा के एंटेब्बे के एक दिवसीय दौरे पर हुई। दोनों देशों के बीच आधिकारिक कूटनीतिक रिश्ते नहीं हैं।

नेतन्याहू के कार्यालय द्वारा जारी आधिकारिक बयान के अनुसार, यह बैठक युगांडा के राष्ट्रपति योवेरी मुसेवेनी के आमंत्रण पर हुई। बयान के अनुसार, नेतन्याहू और बुरहान ‘दोनों देशों के बीच संबंध सामान्य करने के लिए सहयोग करने पर सहमत हुए।’

इजरायल के प्रधानमंत्री ने कहा कि बुरहान अपने देश का अलगाव खत्म करने के लिए उत्सुक हैं और उसका आधुनिकीकरण करना चाहते हैं। अमेरिकी विदेश विभाग ने रविवार को कहा कि विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुरहान से फोन पर बात कर उन्हें वाशिंगटन आमंत्रित किया था।

फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन (पीएलओ) ने सूडान और इजरायल के सबन्धों की आलोचना की। फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन (पीएलओ) ने एक बयान में यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, पीएलओ के महासचिव साएब एरेकात ने सोमवार को कहा, “युगांडा में नेतन्याहू और सूडान के संप्रभु परिषद के प्रमुख अब्दुल फतेह अल-बुरहान की मुलाकात फिलिस्तीन की जनता के साथ धोखा है।”

एरेकात ने कहा, “यह बैठक अरब शांति पहल का स्पष्ट उल्लंघन है और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तथा नेतन्याहू फिलिस्तीन के उद्देश्यों को खत्म करने तथा जेरूशलम को हड़पने की कोशिश कर रहे हैं।”

इस्लामिक हमस आंदोलन के प्रवक्ता हजेम कासिम ने एक बयान में कहा कि “यह बैठक फिलीस्तीनी लोगों के खिलाफ अपराधों और आक्रामकता के साथ इजरायल के कब्जे को बढ़ावा दे रही है।” फिलिस्तीनी इस्लामिक जे”हाद और फिलिस्तीनी वाम इकाई के धड़ों ने भी अलग-अलग बयानों में इस बैठक की निंदा की है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE