‘इस्लाम का अपमान’ करना पड़ा महंगा, मोरक्को-इतालवी नागरिक को…….

दोहरी नागरिकता वाली मोरक्को-इतालवी नागरिक को “इस्लाम का अपमान” करने के लिए साढ़े तीन साल जे’ल की सजा सुनाई गई है। उसके पिता का कहना है कि उसने फेसबुक पर कुरान की आयतों को व्यंग्य के तौर पर अनजाने में प्रकाशित की थी।

इस महीने की शुरुआत में उसे रबात हवाई अड्डे पर गि’रफ्तार किया गया था, जब वह फ्रांस से आई थी, 23 वर्षीय महिला को “पता नहीं था” कि उसकी गिरफ्ता’री का वारंट जारी हो चुका था, पिता ने अब अपने और अपनी बेटी के नाम न छापने का अनुरोध किया।

उन्होने कहा, अप्रैल 2019 में, महिला ने कुरान से एक उद्धरण की नकल करते हुए फेसबुक पर अरबी वाक्यांशों को साझा किया। जबकि वह अरबी को नहीं जानती थी। मारकेश में एक धार्मिक संघ द्वारा उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करने के बाद कानूनी कार्यवाही शुरू हुई।

युवती को सोमवार को “इस्लामी धर्म का अपमान” करने के आरोप में साढ़े तीन साल की जे’ल और लगभग 6,000 डॉलर के जुर्माने की स’जा सुनाई गई। उन्होंने अफसोस जताया, “मैं आज उससे मिलने गया, वह पूरी तरह से टूट चुकी है उसका भविष्य बर्बाद हो गया है।”

मोरक्को के दं’ड संहिता के अनुच्छेद 267 में “इस्लाम का अपमान करने” के अप;राध के लिए छह महीने से दो साल की जे’ल की स’जा का प्रावधान है, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म के माध्यम से सार्वजनिक रूप से अप’राध करने पर जु’र्माना अधिकतम पांच साल तक बढ़ जाता है।